आगरा - पहले फंसाया SC-ST एक्ट में, 10 लाख मांगे, फिर राजपूत महिला को जिन्दा जलाया


महिला पूर्व फौजी की पत्नी है, अनिल राजावत भारतीय सेना के रिटायर्ड हवालदार है, वो आगरा में अपना आशियाना बनाकर रह रहे थे, उनके जुड़वाँ बच्चे है जिनकी उम्र महज 7 साल है 

मामला आगरा के ईको सिटी कोलोनी का है जहाँ अनिल राजावत अपनी पत्नी संगीता राजावत और अपने जुड़वाँ बच्चों के साथ रह रहे थे, अनिल राजावत पूरी जिंदगी देश की रक्षा में तैनात थे और रिटायर्ड होने के बाद यहाँ बसे थे, पड़ोस में दलित परिवार के भरत खरे और उसकी पत्नी सुनीता खरे रह रही थी

अनिल राजावत के बच्चों की भरत खरे के बेटे से लड़ाई हो गयी, लड़ाई 7 साल के बच्चों से हुई, पर भरत खरे ने मामला लिखवाया SC-ST एक्ट का 

इसके बाद कोलोनी में ही एक पंचायत/बैठक बुलाई गयी जहाँ दलित परिवार ने राजपूत परिवार से कहा की - हम केस वापस ले लेंगे अगर तुम हमे 10 लाख रुपए दो और साथ ही सबके सामने पैर छूकर हमसे माफ़ी मागों 

अनिल राजावत जो सेना से हवालदार रिटायर्ड हुए थे उनके पास 10 लाख रुपए कहा थे, वो तो रिटायरमेंट का पैसा घर बनाने में लगा चुके थे, वो दलित परिवार को 10 लाख रुपए नहीं दे सके और इंकार कर दिया 

इसके बाद तनाव बढ़ा और अनिल राजावत की पत्नी संगीत राजावत को जिन्दा जला डाला गया 

SC-ST का मामला ख़त्म करवाने के लिए 10 लाख रुपए मांगे, नहीं दिए तो राजपूत महिला जिन्दा जला दी गयी, सवर्ण उत्पीडन की ये घटना किसी भी मीडिया की खबर तक न बन सकी