"हम नहीं उठाएंगे अब इंडिया का तिरंगा विरंगा, हमे हमारा झंडा वापस दो" : महबूबा मुफ़्ती


जेल से बाहर आते ही महबूबा मुफ़्ती ने साबित कर दिया की सरकार ने उसे जेल से बाहर निकालकर गलती कर दी है और इसकी असल जगह आजीवन जेल के अन्दर ही है 

भारत कदाचित एकलौता देश होगा जो गद्दारों को इस तरह खुलकर देश के खिलाफ बोलने की आज़ादी देता है, चीन में देश के खिलाफ बोलने वाले गद्दारों को सीधे मृत्यु दंड दिया जाता है 

महबूबा मुफ़्ती ने आज एक प्रेस कांफ्रेंस की, इस देश में आज़ादी का जमकर इस्तेमाल किया, महँगी घड़ी और कपडे पहनकर आई और बैठ गयी 

फिर अपनी जहरीली जबान खोलते हुए कहा की - हम जम्मू कश्मीर में धारा 370 को वापस लगा के रहेंगे, और जबतक धारा 370 वापस नहीं लग जाता तब तक हम इंडिया के तिरंगे विरंगे को नहीं उठाएंगे, पहले हमे हमारा झंडा वापस करो उसके बाद ही हम तिरंगा उठाएंगे
इस से पहले फारुख अब्दुल्ला ने तो चीन की मदद मांग ली और कहा की चीन ही अब कश्मीर में धारा 370 लगाने में मदद करे, अब्दुल्ला ने चीन से भारत पर हमला करने का निवेदन किया ताकि वापस धारा 370 को लगाया जा सके 

अब्दुल्ला पर सरकार ने कोई कार्यवाही नहीं की तो आज महबूबा मुफ़्ती के भी हौंसले बुलंद हो गए और उसने भी भारत के खिलाफ, भारत के झंडे के खिलाफ जमकर जहर उगला