पहले ब्राह्मण महिला को फंसाया, मुसलमान बनाया फिर जिन्दा जलवा दिया, कांग्रेस नेता गिरफ्तार


कल दिनांक 13 अक्टूबर को लखनऊ में एक महिला ने खुद को आग लगा लिया, महिला का पूर्व नाम अंजना तिवारी है जो की अब आयशा रज़ा बनी हुई है 

महिला को आसिफ नाम के मजहबी ने प्रेम जाल में फंसाया था, उसे सेक्युलर सपने दिखाए थे, जब आसिफ ने अंजना को प्रेम जाल में फंसाया था तब उसे कहा था की - तुम अपना धर्म मानना, अपने हिसाब से रहना, कोई समस्या थोड़ी है

जब अंजना प्रेम और सेकुलरिज्म के घोड़े पर सवार हो गयी तो आसिफ ने दबाव बनाकर उसका धर्मांतरण करवा लिया और उसका नाम अंजना से आयशा रज़ा रख लिया 

उसके बाद अंजना के साथ कई तरह के अत्याचार शुरू हो गए जिस से अंजना मानसिक और शारीरिक तौर पर टूट गयी और हताश हो गयी 

यहाँ कांग्रेस के नेता मोहम्मद आसिफ ने एक प्लानिंग की, अब अंजना जो की आयशा बन चुकी है उसका कोई ख़ास काम बचा नहीं और वो मानसिक तौर पर परेशान भी है तो उसे जिन्दा जलवा दिया जाये जिसके बाद योगी सरकार के खिलाफ ब्राह्मण कार्ड खेला जाये क्यूंकि अंजना तिवारी ब्राह्मण ही थी 

महिला को आत्मदाह के लिए उकसाया गया और पहले से मानसिक परेशानी झेल रही महिला ने खुद को आग भी लगा लिया 

मोहम्मद आफिस का प्लान था की महिला मर जाएगी उसके बाद हाथरस की तरह ही पूरी मीडिया और कांग्रेस के बड़े गिद्ध नेताओं का दौरा करवाया जायेगा और योगी सरकार के खिलाफ ब्राह्मण विरोधी होने का अभियान चलाया जायेगा 

पर मोहम्मद आसिफ का प्लान फेल हो गया क्यूंकि महिला मरी नहीं और पुलिस ने उसे बचा लिया और अस्पताल में वो जीवित है और उसने पुलिस के सामने कई बयान दिए जिसके बाद अब मोहम्मद आसिफ गिरफ्तार है 
पहले एक हिन्दू ब्राह्मण महिला को फंसाया गया, उसके शरीर का इस्तेमाल लम्बे समय तक किया गया, उसे मुसलमान बना दिया गया और जब उसका इस्तेमाल ख़त्म हो गया उस से जी भर गया तो उसे मानसिक तौर पर परेशान कर जिन्दा जलवा दिया गया ताकि वो मर जाये और योगी सरकार के खिलाफ ब्राह्मण विरोधी एजेंडा भी चलाया जा सके