गाज़ियाबाद में मोटी रकम देकर केजरीवाल ने कराया 236 दलित हिन्दुओ का धर्मांतरण, दलित युवक ने किया खुलासा, थाने में दर्ज कराई FIR


हाथरस के मामले पर केजरीवाल और उनकी पार्टी की गिद्ध राजनीती एक बार फिर सामने आ रही है, हाल ही में मीडिया ने खबर चलाई थी की उत्तर प्रदेश के गाज़ियाबाद में 236 दलितों ने हाथरस काण्ड को लेकर हिन्दू धर्म छोड़ दिया है और धर्मांतरण कर लिया है 

इस मामले पर केजरीवाल और उनकी पार्टी के नेता संजय सिंह सबसे ज्यादा एक्टिव दिखाई दिए थे और दोनों उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला कर रहे थे 

कुछ तस्वीरें भी जारी की गयी थी जिनमे दिखाया गया की दलित हिन्दू धर्म को छोड़ रहे है, संजय सिंह और केजरीवाल ने इसपर कहा की योगी राज में दलितों का जीना मुश्किल है 

अब इस मामले में एक दलित युवक गाज़ियाबाद के साहिबाबाद थाने पहुंचा है, दलित युवक का नाम मिंटू वाल्मीकि है, मिंटू वाल्मीकि ने केजरीवाल की साजिश का पर्दाफाश किया है 

मिंटू वाल्मीकि ने बताया है की धर्मांतरण के कार्यक्रम को आम आदमी पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल ने प्रायोजित करवाया था, केजरीवाल ने अपने आवास पर इलाके के एक शख्स जिसका नाम पवन कुमार है उसे बुलाया था, केजरीवाल ने पवन कुमार को मोटी रकम दी जिसके बाद गाज़ियाबाद में धर्मांतरण के कार्यक्रम का आयोजन किया गया 

ये भी जानकारी सामने आ रही है की इस कार्यक्रम में जो प्रमाणपत्र बांटे गए वो सब फर्जी थे, मिंटू वाल्मीकि ने बताया की भोले भाले दलितों को आम आदमी पार्टी ने एक फॉर्म दिया जिसे उन्होंने भर दिया और फिर घोषित कर दिया गया की उनका धर्मांतरण हो गया है 

अपनी शिकायत में दलित युवक ने कहा है कि 21 अक्टूबर को करहेड़ा में आम आदमी पार्टी के लोगो के द्वारा 230 लोगों के धर्मांतरण की झूठी अफवाह फैलाने की कोशिश की गई है और इससे संबंधित जो प्रमाण पत्र है, जिसमें कोई नाम व पता नहीं है. प्रमाण पत्र जारी करने की तारीख नहीं है, कोई पंजीकरण संख्या अंकित नहीं है. जिनपर किसी का भी नाम लिखा जा सकता है

ये पूरा फर्जीवाडा मीडिया की खबरें बनाने और योगी सरकार को दलित विरोधी घोषित करने के मकसद से किया गया जिसके पूरी फंडिंग खुद केजरीवाल ने की