हिन्दू धर्म को बदनाम करने के लिए NCERT से लेकर हर किताब में झूठ, आपको पढाया गया है फर्जी बोगस झूठा इतिहास


आपने स्कुल और कॉलेज में अशोक मौर्या को लेकर एक बात पढ़ी होगी और वो ये की अशोक ने कलिंग पर हमला किया था और इस हमले में बड़े पैमाने पर अशोक ने लोगो की हत्या करवाई थी, और युद्ध के बाद अशोक को पछतावा हुआ और उसने बुद्ध धर्म अपना लिया 

इस चीज को आपने NCERT की किताबों में भी पढ़ा होगा और दूसरी अन्य किताबों में भी 

अशोक को लेकर ये इतिहास फैलाकर साबित ये किया गया की जब अशोक हिन्दू था तब वो क्रूर था, हिन्दू अशोक दूसरों पर हमला करता था और लोगो की बड़े पैमाने पर हत्या करवाता था, अशोक को जब पछतावा हुआ तब उसने हिन्दू धर्म छोड़ दिया और शांति वाला बुद्ध धर्म अपना लिया 

इस से साबित ये किया गया की बुद्ध धर्म शांति वाला है जबकि हिन्दू धर्म हिंसा सिखाता है 

अब आपको हम ये जानकारी दे की आपने जो इतिहास पढ़ा है वो पूरी तरह फर्जी, बोगस और झूठा है तो कदाचित आपको आसानी से यकीन नहीं आयेगा 

सच ये है की अशोक ने कलिंग की लड़ाई से 4 साल पहले ही बुद्ध धर्म अपना लिया था, जब अशोक ने कलिंग पर हमला किया था तब वो बुद्ध था, बुद्ध अशोक ने कलिंग पर हमला किया था और ये हमला धार्मिक उन्माद में किया गया था 

अब सोर्स देखिये और ये सोर्स किसी और के नहीं बल्कि बुद्ध अकाउंट से ही लिए गए है 
बिन्दुसार मौर्य के निधन के बाद अशोक जब राजा बना था तब राजा बनने के चौथे साल उसने बुद्ध धर्म अपना लिया था

अशोक ने कलिंग पर हमला राजा बनने के आठवे साल में किया था, यानि उसे बुद्ध बने 4 साल हो चुके थे, कलिंग पर हमला हिन्दू अशोक ने नहीं बल्कि बुद्ध अशोक ने किया था 

और आप ये जानकर चौंक जायेंगे की अशोक ने कलिंग पर हमला किस कारण किया था 

दरअसल एक जैन जिनका नाम ज्नातिपुत्र था उन्होंने एक तस्वीर बनाई थी जिसमे उन्होंने गौतम बुद्ध को महावीर के चरणों में दिखाया था

गौतम बुद्ध को महावीर के चरणों में दिखाने के कारण बुद्ध अशोक ने कलिंग पर हमला किया था, ये हमला बुद्ध अशोक ने धार्मिक उन्माद में किया था और इस जानकारी का सोर्स खुद बुद्ध धर्म के ही इतिहासकारों ने लिखा है 

NCERT से लेकर सभी इतिहास की किताबों में बोगस फर्जी और झूठा इतिहास ये पढाया गया की हिन्दू अशोक ने कलिंग पर हमला कर दिया और लोगो को मरवाया बाद में पछतावे के चलते बुद्ध धर्म अपना लिया 

जबकि सच ये है की बुद्ध अशोक ने धार्मिक उन्माद में आकर जैनियों पर हमले के लिए कलिंग पर हमला किया था, फर्जी इतिहास सिर्फ हिन्दू धर्म को बदनाम करने के मकसद से पढाया गया और आज भी ये फर्जी बोगस इतिहास धड़ल्ले से पढाया जा रहा है