दलित का घर फूंका, दलित को मारने की दे रहे धमकी, चुप है राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा, छोड़ा दलितों का साथ


बेंगलुरु की घटना उन लोगो के लिए सीख है जो की जय भीम जय मीम के नारे लगाते है या फिर मुस्लिम यादव समीकरण की बात करते है 

आप इस बात को समझ लीजिये की चाहे कांग्रेस हो, या समाजवादी पार्टी, या मायावादी हो या कोई, ये सभी मुसलमानों के साथ ही खड़े नजर आएंगे 

दलित और मुस्लिम के बीच विवाद होगा तो ये सब दलितों का साथ छोड़ मुसलमानों के साथ खड़े हो जायेंगे, यादव और मुसलमानों में विवाद होगा तो ये यादवों का साथ छोड़कर मुसलमानों के साथ खड़े हो जायेंगे और ऐसा एक बार नहीं बल्कि बार बार होता आया है 

कर्णाटक में 60 हज़ार मुस्लिम जमा हुए और दलित विधायक का घर राख कर दिया, दलित युवक नवीन को मौत के घाट उतारने की धमकीयां दी जा रही है 

राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा समेत पूरी कांग्रेस चुप है, जबकि जिस दलित विधायक का घर जलाया गया है वो कांग्रेस का ही विधायक है 

कांग्रेस ने अपने ही दलित विधायक और दलितों का साथ छोड़ दिया और कांग्रेस उन उन्मादियों का साथ दे रही है जिन्होंने दलित विधायक का घर जला दिया, यानि दलित मुस्लिम में विवाद हुआ तो कांग्रेस ने मुस्लिम के साथ खड़ा होना ही बेहतर समझा 

अभी दलित विधायक और पी नवीन जो की दलित लड़का है उसका साथ न मायावती दे रही है और न ही कांग्रेस और न ही कोई भी दलित संगठन, न ही इनके साथ DMK दे रही है और न ही CPM, सबने पी नवीन का साथ छोड़ दिया

पी नवीन की सुरक्षा के लिए अभी कहीं से आवाज उठाई जा रही है तो सिर्फ और सिर्फ हिन्दू दलों की ओर से उठाई जा रही है, वही हिन्दू दल जिन्हें दलित विरोधी बताया जाता है