सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को माफ़ करने से किया इंकार, भूषण के लिए तिहाड़ का रास्ता खुला


अब 17 अगस्त को प्रशांत भूषण तिहाड़ जेल के अन्दर नजर आ जाये तो कोई बड़ी बात नहीं होगी, आज सुप्रीम कोर्ट ने कुख्यात वकील प्रशांत भूषण की माफ़ी लेने से इंकार कर दिया 

सुप्रीम कोर्ट में प्रशांत भूषण पर कोर्ट की अवमानना का केस चल रहा है, भूषण पर कोर्ट की अवमानना के 2 केस है, एक केस तो इसी साल 2020 में शुरू हुआ है और एक केस साल 2009 का है 

साल 2009 के केस में प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था की इसपर ये केस न चलाया जाये, मामला पुराना हो गया है इसलिए केस से छुट और माफ़ी दे दी जाये 

आज सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण की इस मांग को सिरे से ख़ारिज कर दिया 

कोर्ट ने कहा की प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस चलेगा उसे कोई माफ़ी या छुट नहीं दी जाएगी, कोर्ट ने केस की अगली सुनवाई की डेट 17 अगस्त को रखी है

17 अगस्त को कोर्ट प्रशांत भूषण को तिहाड़ के अन्दर डाल दे तो कोई बड़ी बात नहीं होगी, भूषण को 3 सालों के लिए तिहाड़ के अन्दर डाला जा सकता है और बड़ी चीज ये की मामला खुद सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है ऐसे में भूषण किसी और बड़ी अदालत में याचिका भी नहीं डाल सकेगा 

बता दें की प्रशांत भूषण वही कुख्यात वकील है जिसने कश्मीर को भारत से तोड़ने की मांग की थी, जिसके बाद कुछ राष्ट्रवादी युवकों ने इसे जमकर पीटा भी था, इसके साथ साथ ये वही कुख्यात वकील है जो आतंकवादी याकूब मेमन के रात को 4 बजे कोर्ट का दरवाजा खटखटा रहा था, इसके अलावा ये रोहिंग्यों और अन्य घुसबैठियों का भी वकील है