"सुशांत केस की जांच को आये तो सीबीआई वालो को हमसे लिखित इज़ाज़त लेनी होगी" : मुंबई नगरनिगम


पहले बिहार पुलिस की टीम जांच के लिए आई तो मुंबई में BMC ने आईपीएस अधिकारी को कोरोना के नाम पर 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन कर दिया और सुशांत केस की जांच करने नहीं दी 

फिर नगरनिगम ने कहा की अगर सीबीआई की टीम जांच के लिए आई तो उन्हें भी क्वारंटाइन किया जायेगा क्यूंकि राज्य में कोरोना चल रहा है 

आज 19 अगस्त को अब सुप्रीम कोर्ट ने सुशांत केस में सीबीआई जांच का आदेश दे दिया तो अब BMC ने फिर से कोरोना के नाम पर जांच में रोड़ा अटकाने का काम शुरू कर दिया है 

अब BMC ने बयान जारी कर कहा की - सीबीआई की टीम सुशांत केस की जांच के लिए आती है तो उसे सिर्फ 7 दिनों के लिए हम इज़ाज़त देंगे, अगर उनको 7 दिनों से ज्यादा रुकना होगा तो उन्हें हमसे ईमेल के जरिये लिखित इज़ाज़त लेनी होगी 

आपको बता दें की मुंबई नगरनिगम जिसे BMC कहते है उसे शिवसेना चलाती है 
नगनिगम के कमिश्नर ने कहा की - सिर्फ 7 दिनों के लिए ही हम सीबीआई को छुट देंगे, 7 दिनों से ज्यादा रुकना है तो सीबीआई वालो को हमसे लिखित में इज़ाज़त लेनी होगी 

इतना तो साफ़ है की शिवसेना द्वारा चलाई जा रही BMC सुशांत केस में फिर रोड़ा अटकाने की पूरी तैयारी में है, अब देखना है की सीबीआई इस मामले को कैसे हैंडल करती है