चीन के इशारे पर भारत की हथियार फैक्ट्रीयों में हड़ताल की साजिश, ताकि भारतीय सेना की सप्लाई रुक जाये



भारत के गद्दार वामपंथी चीन के दलाल है ये बात हर बार साबित हुई है, 1962 के युद्ध के समय भारत के वामपंथियों ने केरल, बंगाल और कई इलाकों में भारत विरोधी नारेबाजी करते थे, कई स्थानों पर तो भारतीय वामपंथी चीनी सेना के सैनिको के लिए बाकायदा खून तक जमा कर रहे थे, उस दौर में सोशल मीडिया और मीडिया नहीं था 

आज सोशल मीडिया और मीडिया के चलते वामपंथी उस प्रकार की गद्दारी तो नहीं कर पा रहे पर चीन के इशारे पर अब भारत के वामपंथी एक नयी साजिश रच रहे है 

जानकारी ये सामने आई है की भारत के वामपंथी भारत की हथियार फैक्ट्रीयों में मजदुर यूनियन की हड़ताल करवाने की तैयारी कर रहे है, ये कई प्रकार के बहाने बनाकर हड़ताल करवाएंगे, ये हड़ताल मुख्यतः ऐसी फैक्ट्रीयों में करवाया जायेगा जहाँ भारतीय सेना के लिए हथियार, बारूद, हथियार बनाने की सामग्री बनती है 

भारत में कई आर्डिनेंस फैक्ट्रीयां है जहाँ भारतीय सेना के लिए बन्दुक, गोली, कई तरह के बम इत्यादि बनते है, इन फैक्ट्रीयों में बड़े पैमाने पर मजदुर भी काम करते है और वामपंथी मजदुर यूनियन लम्बे समय से इन फैक्ट्रीयों में सक्रीय है 

अब चीन के इशारे पर इन आर्डिनेंस फैक्ट्रीयों में हड़ताल करवाने की योजना है और इसका मकसद है भारतीय सेना की सप्लाई को रोकना, सप्लाई में बाधा उत्पन्न करना 
देश के कई राज्यों में आर्डिनेंस फैक्ट्रीयां है और इन सभी स्थानों पर हड़ताल की योजना है, ये सबकुछ भारत के वामपंथी चीन के इशारे पर करेंगे, चीन भारत में मौजूद अपने एजेंट्स को तैयार कर रहा है ताकि भारतीय सेना के लिए समस्या उत्पन्न की जा सके full-width