पुलिसकर्मियों का पोस्टमॉर्टम करने वाले डाक्टर भी काँपे, कैसे कोई हो सकता है इतना बेरहम



कानपुर में पुलिस टीम को घेर कर उनपर हमला किया था। इस हमले में कुल आठ पुलिसकर्मी शहीद हुए तो वहीं सात गंभीर रूप से घायल हुए। शहीद पुलिसकर्मियों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कई बड़े खुलासे हुए है। दरअसल, सिपाही सुल्तान को दो गोलियां मारी गईं। वहीं अन्य पुलिसकर्मियों को आठ से दस गोलियां मारी गईं। जो गोलियां निकाली गईं हैं, उनको परीक्षण के लिए भेजा जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, इस हमले में शहीद पुलिसकर्मियों का शरीर देखकर डॉक्टर भी दंग रह गए। दरअसल, पुलिसकर्मियों के सिर, चेहरे, हाथ, पैर, सीने और पेट में गोलियां लगीं। इसके साथ ही सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्र के चेहरे पर एक गोली लगने से वाइटल ऑर्गन बाहर आ गया और उन्होंने तुरंत दम तोड़ दिया।

अगर डॉक्टरों की मानें तो यही हाल अन्य पुलिसकर्मियों का भी हुआ होगा। ज्यादातर गोलियां शरीर के पार हो गईं। तीन पुलिसकर्मियों के शरीर में गोलियों के टुकड़े जरूर मिले जो हड्डियों से टकराने से कई टुकड़ों में बंट गए। गोलियां रायफल की बताई जा रही हैं। पोस्टमार्टम के दौरान मिले गोलियों के टुकड़ों को परीक्षण के लिए भेजा जाएगा।

डीजीपी ने कहा है कि इसका रहस्योद्घाटन किया जाएगा कि घटना के पीछे किन लोगों की साजिश थी। उन्होंने कहा के पहले से ही बदमाशों को जानकारी थी इसीलिए जेसीबी से रास्ता रोक कर रखा गया था। 

अंधेरे का बदमाशों ने फायदा उठाया पुलिस के पास पूरे हथियार थे और टीम भी बड़ी थी। इस मामले की तहकीकात के लिए लखनऊ और कानपुर एसटीएफ लगाई गई है। उन्होंने कहा कि हमारे 8 लोग मारे गए हैं और साथ घायल हैं हम किसी भी दोषी को छोड़ेंगे नहीं। full-width