सचिन पायलट को 30 विधायकों का समर्थन, जीने मरने की कसम खाई, गहलोत-कांग्रेस गियो



4 दिन पहले खबर आई थी की राजस्थान के सारे बॉर्डर सील कर दिए गए है, बताया गया था की कोरोना के चलते ऐसा किया गया, पर असल वजह ये थी की सचिन पायलट सड़क मार्ग के जरिये राजस्थान से बाहर न जा सके

फिर खबर आई की अशोक गहलोत ने मंत्रियों और विधायकों की बैठक बुलाई है, सचिन पायलट इस बैठक में नहीं पहुंचे और फिर जानकारी सामने आई की वो कई विधायकों के साथ दिल्ली पहुँच गए है

फिर आज खबर आई की अशोक गहलोत ने पुलिस से सचिन पायलट को हाजिर होने का आदेश भिजवाया है और वो भी देशद्रोह की धारा लगाकर, फिर साफ़ हो गया की अब मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान भी कांग्रेस मुक्त होने जा रहा है, सचिन पायलट कांग्रेस छोड़ने वाले है और वो दिल्ली में है और लगातार बीजेपी के नेताओं के साथ संपर्क बनाये हुए है 

सचिन पायलट के साथ राजस्थान के 30 कांग्रेस विधायक है जो कसम खा चुके है की जहाँ पायलट जायेंगे वहां हम जायेंगे, राजस्थान में कांग्रेस के टोटल 107 विधायक है वहीँ बीजेपी के पास 72 है, बहुमत के लिए 101 विधायक चाहिए, राज्य में कुल विधायकों की संख्या 200 है 

कांग्रेस के 30 विधायक सचिन पायलट के साथ पाला बदलते है तब कांग्रेस के 77 विधायक ही बचेंगे वहीँ बीजेपी को इनका साथ मिलेगा और बीजेपी के पास 102 का आंकड़ा होगा, बीजेपी के पास हनुमान बेनीवाल के भी 3 विधायक है तो टोटल आंकड़ा 105 का होगा और इस तरह सरकार बन जाएगी 



कांग्रेस के 30 विधायक बीजेपी का समर्थन करते है तब कांग्रेस पार्टी कानून लगाएगी और फिर 30 सीटों पर दुबारा चुनाव होगा, जैसे कर्णाटक में हुआ था, पर तबतक सरकार बीजेपी के पास ही रहेगी, अब राजस्थान में कांग्रेस और अशोक गहलोत गियो ! full-width