रूस में अमर हुए पुतिन, 2036 तक रहेंगे राष्ट्रपति, एकछत्र राज, कोई मुकाबला, कोई चुनौती नहीं



अब रूस का मतलब व्लादिमीर पुतिन और पुतिन का मतलब रूस हो चूका है, रूस में अब पुतिन का एकछत्र राज स्थापित हो चूका है, पुतिन को अब न कोई चुनौती है और न ही अब उनका किसी से कोई मुकाबला है 

रूस के संविधान में संसोधन कर दिया गया है, ये संसोधन बाकायदा रुसी संसद ने अपने पुरे कानून के मुताबिक किया है और इसके तहत अब रूस में चुनाव की जरुरत नहीं है 

व्लादिमीर पुतिन अब रूस में साल 2036 तक एकछत्र राज करेंगे, वो ही राष्ट्रपति रहेंगे, चुनाव दुसरे पदों के लिए होंगे पर राष्ट्रपति पद के लिए अब न कोई मुकाबला होगा न ही पुतिन को कोई चुनौती ही दी जाएगी 

पुतिन के एकछत्र राज के लिए रूस में रेफेरेंडम भी हुआ जिसमे पुतिन की जीत हुई, यानि रूस की जनता और रूस के तमाम नेता भी पुतिन के ही समर्थन में है और पूरा देश पुतिन की अगुवाई में ही चलना चाहता है 

पुतिन अभी 67 साल के है और साल 2036 में उनकी उम्र 84 साल की हो जाएगी, उसके बाद भी अगर उनका स्वास्थ्य ठीक रहता है तो वो आगे भी राज करते रहेंगे 
बता दें की रूस दुनिया की दुसरे सबसे बड़ी महाशक्ति है, रूस के पास सैन्य ताकत बेमिसाल है आर्थिक मोर्चे पर कुछ ख़ास न होने के बाबजूद सिर्फ सैन्य बल पर रूस महाशक्ति बना हुआ है और इस महाशक्ति के अब सम्राट है व्लादिमीर पुतिन full-width