वाराणसी में जिसका हुआ था मुंडन वो निकला भारतीय, 1 हज़ार रुपए में बना था नेपाली, 4 गिरफ्तार, 1 फरार



पिछले दिनों एक खबर को सेक्युलर मीडिया और लिबरल जमात ने बड़ी तेजी से फैलाया, खबर बताया गया की वाराणसी में एक नेपाली शख्स को पकड़ कर पीटा गया, उसका मुंडन किया गया और उस से जय श्री राम के नारे लगवाए गए 

अब पुलिस की जांच में एक नयी तस्वीर सामने आई है, भारत और नेपाल के रिश्ते इन दिनों तल्ख़ चल रहे है और रिश्तों को और ख़राब करने के मकसद से एक बड़ी साजिश रची गयी थी 

दरअसल जिस शख्स का वाराणसी में मुंडन किया गया था और जिसे सेक्युलर मीडिया और लिबरल जमात ने नेपाली बताया था वो असल में नेपाली नहीं बल्कि भारतीय है और वो 1000 रुपए लेकर नेपाली बना था 

पुलिस ने अब इस शख्स को गिरफ्तार किया है और इसका नाम धर्मेन्द्र है, ये साडी की दूकान में काम करता है और 1000 रुपए लेकर नेपाली बन गया था, पुलिस अब अरुण पाठक नाम के शिवसेना नेता को खोज रही है जिसने ये साजिश रची थी, अरुण पाठक फरार है, पुलिस ने इस मामले में 4 को गिरफ्तार किया है 

बता दें की पिछले दिनों नेपाल के वामपंथी प्रधानमंत्री ने भगवान् राम पर आपत्तिजनक बयान देते हुए भगवान् राम को नेपाली बताया था और साथ ही ये भी कहा था की अयोध्या तो भारत में नहीं बल्कि नेपाल में है