इमरजेंसी मीट के लिए रूस भेजे जा सकते राजनाथ, PM मोदी कर रहे चीन को बुरी मौत मारने की तैयारी



प्रधानमंत्री मोदी एक्शन लेने के लिए जाने जाते है, चाहे उडी हो या फिर पुलवामा, जब भी भारत पर कोई बड़ा हमला होता है तो मोदी ज्यादा बयान नहीं देते, मोदी ज्यादा बोलते नहीं है और तैयारी करके एक्शन लेते है 

लद्दाख में भी चीनी सेना ने भारतीय सैनिको पर धोखे से हमला किया, भारतीय सेना ने तो वहीँ के वहीँ चीनी सेना से जोरदार बदला ले लिया पर अभी हमला करने के लिए चीन को सजा देना बाकी है और मोदी ने लद्दाख झड़प के बाद भी ज्यादा बोला नहीं है 

मोदी ने जवानों को याद करते हुए सिर्फ इतना ही बोला की - जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा, शुरू उन्होंने किया है पर अंत हम करेंगे 

मोदी चीन को बुरी मौत मारने की तैयारी कर रहे है, दोनों तरह का एक्शन चीन पर लिया जायेगा, सैन्य एक्शन भी और आर्थिक एक्शन भी 

आर्थिक एक्शन की शुरुवात तो कर दी गई है और चीन को मिले कई ठेके सरकार ने रद्द कर दिए है और आगे के आर्थिक एक्शन के लिए रोडमैप बनाया जा रहा है 

इसके अलावा जानकारी ये है की भारत अपने सबसे पुराने मित्र देशों से संपर्क स्थापित कर चूका है और ये देश है रूस और इजराइल 

रूस ने भारत की एक मांग पर 33 नए फाइटर जेट्स पर भी ग्रीन सिग्नल दे दिया है एउर दूसरी तरफ खबर ये भी सामने आ रही है की भारत के रक्षामंत्री 23 जून को रूस की यात्रा कर सकते है, ये इमरजेंसी यात्रा होगी और सैन्य तैयारी के लिए ये यात्रा होगी 
इसके अलावा इजराइल से भी भारत की बातचीत चल रही है, इजराइल के पास बेहतरीन तकनीक के लजेर गाइडेड मिसाइल्स है जो पहाड़ों पर भारतीय सेना के काम आयेंगी 

प्रधानमंत्री मोदी आर्थिक और सैन्य दोनों तरह का एक्शन चीन पर चाहते है और इसकी तैयारियां शुरू की जा चुकी है full-width