जौनपुर में दलितों का घर जलाने वाले मजहबी उन्मादियों पर योगी आदित्यनाथ ने लगाया NSA, 400 उन्मादियों ने घेरकर दलितों पर किया था हमला


जौनपुर (Jaunpur) में दलितों की बस्ती पर हमले मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) बेहद सख्त नजर आ रहे हैं. सीएम ने इस पूरे मामले का संज्ञान लिया है. उन्होंने अधिकारियों को दलितों का घर फूंकने के मुख्य आरोपी नूर आलम और जावेद सिद्दीकी समेत सभी आरोपपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुऱक्षा कानून (NSA) के तहत कार्ऱवाई करने के आदेश दिए हैं. इसके अलावा सीएम ने थाना प्रभारी के खिलाफ कड़ी कार्ऱवाई को निर्देशित किया है. उन्होंने आलाधिकारियों को पीड़ित दलितों को तत्काल आवास समेत अन्य सरकारी मदद देने का आदेश भी दिया है.

बता दें कि जौनपुर सरायख्वाजा क्षेत्र के भदेठी गांव मंगलवार शाम मवेशी चराने के विवाद में दो पक्षों के बीच झगड़ा हो गया. प्रधानपति आफताब उर्फ हिटलर ने उस वक्त झगड़े को शांत करा दिया. पीड़ितों का आरोप है कि रात आठ बजे प्रधानपति, उसके लड़के व सलीम ने 400 के साथ दलित बस्ती पर धावा बोल दिया. 

उपद्रवियों ने नंदलाल, नींबूलाल, फिरतू, राजाराम, जीतेन्द्र, सेवालाल सहित 12-13 लोगों के मड़हों में आग लगाकर तोड़फोड़ की. इस दौरान कई वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया गया, आग की चपेट में आने से तीन बकरियों व एक भैंस की मौत हो गई. डीएम व एसपी मंगलवार रात ही घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंच गए थे. अफसरों ने पीड़ितों को 5000 रुपये और राशन उपलब्ध कराया.

बुधवार सुबह घटनास्थल पर पहुंचे मंडलायुक्त ने डीएम को नुकसान का आंकलन कर शासन को अवगत कराने और पीड़ितों को मुआवजा दिलाने का निर्देश दिया. आईजी ने एसपी को दोषियों की गिरफ्तारी करने का निर्देश दिया. एसपी ने बताया कि भदेठी कांड में 35 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. डीएम ने कहा कि यह बहुत बड़ी घटना है. जिन लोगों के मकान जलाए गए हैं उनकी सुरक्षा, रहने व खाने-पीने की व्यवस्था प्रशासन करेगा.

पुलिस ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर 35 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने 57 नामजद और 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है.  मामले में सपा नेता मोहम्मद जावेद सिद्दीकी और प्रधानपति आफताब उर्फ हिटलर को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है.आरोपियों की तलाश में पुलिस रातभर दबिश देती रही. तनाव को देखते हुए गांव में दो प्लाटून पीएसी तैनात की गई है.

वहीं इस मामले पर आईजी ने बताया कि विवाद दिन में भी हुआ था. दोनों गुटों ने समझौता कर लिया गया था, बाद में कुछ लोगों के बहकाने पर एक पक्ष ने रात में दूसरे पक्ष की बस्ती में घुसकर तोड़फोड़ और आगजनी की. सभी को चिह्नित किया जा रहा है. हालात नियंत्रण में हैं. अब तक 35 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. अन्य की तलाश की जा रही है.

वहीं इस मामले को लेकर अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग की सदस्य अनिता सिद्धार्थ मामले को संज्ञान लिया है. वे बुधवार को भदेठी कांड के पीड़ितों से मिलीं. उन्होंने उनकी हरसंभव मदद का भरोसा दिया. उन्होंने कहा कि गांव में अनुसूचित जाति के लोगों पर हुए जुल्म व ज्यादती की रिपोर्ट अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग के अध्यक्ष को प्रेषित कर दी गई है. full-width