LG के आदेश के बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने देश के लोगो को दिल्ली पर बताया बोझ



देश की राजधानी दिल्ली में हरियाणा फिर ग़ाज़ियाबाद से आकर मुख्यमंत्री बने अरविन्द केरजीवाल ने आज देश के लोगो को दिल्ली पर बोझ बता दिया है

अरविन्द केजरीवाल ने कल आदेश जारी कर फरमान सुनाया था की - दिल्ली में अब बाहरी लोगो का इलाज नहीं होगा, बाहरी वो लोग है जो देश के अलग अलग राज्यों के रहने वाले है और जो इलाज के लिए दिल्ली आते है

केजरीवाल ने अस्पतालों को भी धमकी दी और कहा की - सबके कागज़ चेक करके ही इलाज किया जायेगा, दिल्ली में बाहरी लोगो का इलाज नहीं होगा

केजरीवाल का ये आदेश गैर क़ानूनी और गैर संविधानिक था, जिसे आज 8 जून को दिल्ली के LG अनिल बैजल ने रद्द कर दिया और अब फिर से दिल्ली में देश के नागरिक इलाज करा सकेंगे

पर अब उपराज्यपाल के आदेश के बाद मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने देश के लोगो को दिल्ली पर बोझ बता दिया है, केजरीवाल ने आज लिखित में देश के लोगो को दिल्ली पर बोझ बताया, देखिये
अगर आपको ठीक से समझ नहीं आया है तो पहले आपको स्पष्ट बता दें की आज दिल्ली में 90% से ज्यादा नागरिक ऐसे है जो दूसरे राज्यों से दिल्ली आये है, केजरीवाल हरियाणा, सिसोदिया राजस्थान, संजय सिंह यूपी से दिल्ली आये है 

दिल्ली में आज़ादी के बाद से ही सबसे ज्यादा विकास सिर्फ इसलिए किया गया क्यूंकि दिल्ली भारत देश की राजधानी है, अन्यथा दिल्ली ने देश को ऐसा कुछ नहीं दिया की सबसे पहले विकास उसी का किया जाये 

दिल्ली में विकास हुआ तो अस्पताल बने और इसके पीछे राजधानी होना ही एकमात्र वजह है, दिल्ली पर देश के हर नागरिक का उतना ही हक़ है जितना हरियाणा से आये केजरीवाल का, ऐसे में केजरीवाल देश के लोगो को दिल्ली पर बोझ बता रहा है जबकि अगर उसी का फार्मूला मान लिया जाये तो केजरीवाल खुद दिल्ली पर एक बड़ा बोझ है और इसके सरे विधायक और मंत्री भी बाहरी है ये सब दिल्ली पर बोझ है

यहाँ गौर करने वाली एक और बात ये है की अरविन्द केजरीवाल खुद दिल्ली में विदेशी घुसबैठियों का भरपूर ख्याल रखे हुए है चाहे वो रोहिंग्या हो या बांग्लादेशी, पर भारत देश के ही अन्य राज्यों के लोगो को दिल्ली में बोझ बता रहा है full-width