CAA प्रोटेस्ट के नाम पर थी हिन्दू नेताओं को मौत के घाट उतारने की तैयारी, कई RSS और बीजेपी नेता थे निशाने पर


नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में धरना-प्रदर्शन मामले पर बड़ा खुलासा सामने आया है. जी न्यूज की खबर के मुताबिक पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI)  एक बड़ी साजिश को अंजाम देने वाली थी. एंटी सीएए प्रदर्शनों के दौरान ISI की हमले की योजना थी. इस साजिश के तहत बीजेपी और RSS से जुड़े नेताओं पर हमले की योजना बनाई गई थी. 

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की आड़ में हिंसा हुई. कई जगहों पर प्रदर्शन की आड़ में उत्पात मचाया गया. वहीं दूसरी तरफ विरोध प्रदर्शन के नाम पर देश विरोधी साजिश भी रची जा रही थी. और इस साजिश को अंजाम देने वाला था पाकिस्तान.जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आतंकी हमले और देश में दंगे कराने की साजिश में जुटी थी.

इस दौरान बीजेपी और आरएसएस से जुड़े नेताओं पर हमले की साजिश की जा रही थी और ये सब अंडरवर्ल्ड और अपराधियों की मदद से किया जाना था. लेकिन एनआईए ने धमकी की रिपोर्ट को गंभीरता से लिया और सुरक्षा एजेंसियों को आतंकी संगठनों पर नजर रखने के लिए कहा. 

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में में दिल्ली के शाहीन बाग से प्रदर्शन शुरू हुआ था जो कि धीरे-धीरे करके पूरे देश में फैल गाया था. इस बीच पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने भी भारत में दंगे करवाने की बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारियां शुरू कर दीं. CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान ISI की बड़ी साजिश का पता चला है.

बता दें की फ़रवरी में दिल्ली में दंगे भी किये गए थे जिसमे बड़े पैमाने पर हिन्दुओ को निशाना बनाया गया था, इस दंगों में दिल्ली पुलिस ने अब कई आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है जिसमे आम आदमी पार्टी, कांग्रेस के नेता समेत ऐसे कई आतंकवादी है जो की मीडिया और JNU वालो से सम्बन्ध रखते है full-width