अलीगढ - जवानों के बलिदान का बदला लेने सड़क के जरिये चीन की तरफ भागते हुए जा रहे थे मासूम, पुलिस ने पकड़ा फिर घर वापस भेजा



लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय जवानों के लिए पूरे देश के लोगों में रोष देखा जा सकता है। चीन को लेकर तरह-तरह के विरोध के मामले सामने आ रहे हैं। 

कहीं चीनी राष्ट्रपति की अर्थी निकाली जा रही है तो कहीं उनका पुतला फूंका जा रहा है। सोशल मीडिया पर चीनी उत्पादों के बहिष्कार किए जाने और जवानों का बदला लेने की बात की जा रही हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जनपद में 10 मासूम बच्चे अपने जवानों का बदला चीन से लेने निकल पड़े।

जानकारी के मुताबिक, अलीगढ़ के गभाना थाना क्षेत्र के अमरदपुर गांव के रहने वाले 10 बच्चों ने चीन से भारतीय जवानों की शहादत का बदला लेने का मन बनाया और फिर इकट्ठा होकर चीन से लड़ने के लिए निकल पड़े। लेकिन पुलिस ने उन्हें दोरू मोड़ के पास रोक लिया। इसके बाद उनके परिजनों को बुलाकर और उन्हें समझा-बुझाकर वापस घर भेज दिया गया।


बीते 15 जून की रात चीनी सैनिकों ने प्लान बनाकर भारतीय जवानों पर हमला बोल दिया। बड़ी संख्या में चीनी सैनिक लाठी, डंडे और कंटीली तार लपेटकर बनाए गए हाथियारों से लैश थे। इस हमले में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए। लेकिन इन जवानों ने चीनी सैनिकों को करारा जवाब दिया।

जवानों चीन के कमाडिंग ऑफिसर को ढेर कर दिया, साथ ही उनके 43 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। जानकारी के अनुसार, चीन के कई सैनिक गंभीर रूप से घायल भी हैं। हालांकि, चीन ने अपनी बदनामी के डर से घटना में हताहत हुए जवानों की कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी। full-width