भारत की वामपंथी पार्टी के नेता येचुरी ने आधिकारिक रूप से चीन का किया समर्थन



भारत की वामपंथी पार्टी सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से अप्रत्यक्ष रूप से चीन का समर्थन कर दिया है 

15 जून की रात को भारत और चीन के सैनिको के बीच हिंसक भिडंत हुई, हमला चीनी सैनिको ने किया जिसका मुहतोड़ जवाब भारत के सैनिको ने दिया 

इस घटना के बाद कई दिन बीत गए पर भारत के किसी भी वामपंथी पार्टी ने चीन की आलोचना नहीं की, चीन के खिलाफ 1 बयान तक जारी नहीं किया, पर आज 4 दिन बाद 19 जून को भारत की सबसे बड़ी वामपंथी पार्टी सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने आधिकारिक और अप्रत्यक्ष रूप से चीन का समर्थन कर दिया 

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने आज हिंदी चीनी भाई भाई का नारा दिया और कहा की भारत को किसी भी कीमत पर पंचशील समझौते को नहीं तोडना चाहिए और पंचशील समझौते का पालन करना चाहिए 

आपको पहले बता दें की पंचशील समझौता नेहरु ने किया था जिसके तरह ही हिंदी चीनी भाई भाई का नारा दिया गया था, चीन ने इस समझौते का पालन नहीं किया और भारत पर हमला कर भारत के कई हिस्सों पर कब्ज़ा कर लिया जो आज भी बरकारार है

इस समझौते के तहत भारत को कभी चीन की आलोचना नही करनी है, भारत को कभी चीन के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाना है, हमेशा चीन से हां में हां मिलाकर रहना है 

अब सीताराम येचुरी ने जो कहा पहले वो देखिये 

सीताराम येचुरी ने हमला करने वाले चीन के खिलाफ 1 बयान तक नहीं दिया न चीन की कोई आलोचना की पर भारत को नसीहत दे दी की भारत पंचशील समझौते का पालन करे 



सीताराम येचुरी ने अप्रत्यक्ष रूप से चीन का पूर्ण समर्थन कर दिया और साफ़ कर दिया की भले चीन हमारे सैनिको पर हमला करे, चीन हमारी भूमि पर कब्जे के लिए गतिविधियाँ चलाये पर भारत चीन विरोध बिलकुल न करे और चुप चाप पंचशील समझौते का पालन करते रहे full-width