'हलाल' प्रोडक्ट का मतलब - सिर्फ मुसलमानों को रोजगार, दूसरों के लिए कोई जगह नहीं


इन दिनों हलाल मांस, हलाल प्रोडक्ट्स को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा काफी बढ़ चुकी है, सोशल मीडिया के आने से पहले हलाल प्रोडक्ट्स, हलाल मांस को लेकर ज्यादा लोग जागरूक नहीं थे 

लोग आज भी बड़े पैमाने पर जागरूक नहीं है, देश में अधिकतर मांस जो की आप कंपनियों से खरीदते है, ऑनलाइन खरीदते है, वो सभी हलाल सर्टिफाइड होता है 

लोग जागरूक नहीं है इसलिए वो कभी इस चीज पर गौर नहीं करते, पर दूसरी तरह हर मुसलमाना हलाल मांस, हलाल प्रोडक्ट्स को लेकर पूरी तरह जागरूक है 

दुसरे धर्मो के लोग तो कहीं से भी मांस खरीदकर ले जाते है, पर मुसल्ल्मान सिर्फ और सिर्फ वही मांस खरीदते है जो की हलाल हो, ऑनलाइन भी खरीदते है तो हलाल का ठप्पा होना चाहिए, हलाल सर्टिफाइड होना चाहिए 

हिन्दू और अन्य धर्म के लोग सिर्फ मांस से मतलब रखते है, पर मुसलमान सिर्फ हलाल मांस ही लेते है, अन्य मांस नहीं 

अब ये हलाल मांस क्या होता है ये सरल भाषा में आपको समझना चाहिए 

हलाल मांस का मतलब है जानवर को इस्लामी तरीके से काटा गया हो, और काटने से पहले इस्लामी फातिहे पढ़े गए हो, हलाल मांस पूरी तरह मजहबी कृत्य है, इसमें जानवर को एक खास तरह से काटा जाता है, उसकी गर्दन पर पहले चीरा लगाया जाता है, और उसे तडपा तडपा कर मारा जाता है, जानवर तबतक तड़पता रहता है जबतक उसके शरीर में जान होती है, उसका खून बहता रहता है, आधा चीरा लगाकर जानवर को मरने छोड़ दिया जाता है और इस दौरान इस्लामी फातिहे पढ़े जाते है 

यहाँ एक और गौर करने वाली चीज ये है की मांस काटने वाला सिर्फ मुसलमान ही होना चाहिए

हलाल मांस का सीधा मतलब, मुसलमान को ही मांस काटने के रोजगार मिलेगा, इस्लामी तरीके से जानवर को मारा जायेगा, और जानवर को तडपा कर उसकी जान निकाली जाएगी, तभी ऐसे मांस को हलाल का सर्टिफिकेट मिलेगा 

ऑनलाइन और दुकानों पर हलाल सर्टिफाइड जितने मांस आप खरीद रहे होते है, इसी प्रोसेस के बाद आपको मिलता है, हलाल मांस का मूल मतलब ये ही है, और मुसलमान सिर्फ हलाल मांस ही लेते है अन्य कोई मांस नहीं, हिन्दू और दुसरे धर्म के लोगो को कोई फर्क पड़ता नहीं, इसलिए कम्पनियाँ हलाल मांस ही बेचती है, क्यूंकि हलाल मांस नहीं होगा तो मुसलमान तो बिलकुल नहीं लेंगे, और हलाल होने न होने से हिन्दू और दुसरे धर्म के लोगो को तो फर्क पड़ता नहीं full-width