मंदिरों से सोना नहीं, इन कांग्रेस नेताओं से लो पैसा, लाखों करोड़ ऐसे ही निकल जायेंगे


कांग्रेस पार्टी की नजर PM केयर फण्ड के बाद अब देश के मंदिरों के सोने पर पड़ गयी है, कांग्रेस के वरिष्ट नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने मांग करी की धार्मिक स्थलों में रखा सोना ले लिया जाये 

बता दें की देश में धार्मिक स्थल मंदिर ही है जहाँ भक्तों द्वारा दान दक्षिणा में मिला सोना है, ये दान दक्षिणा भक्तों ने मंदिर के मैनेजमेंट और हिन्दू धर्म, गौ सेवा इत्यादि के लिए दिया है

आपको ये भी बता दें की भारत में सरकार सिर्फ हिन्दू मंदिरों पर ही टैक्स लगाती है, इतने दशको और सालों से लगातार मंदिरों से मोटा पैसा भी ले चुकी है 

इसके बाबजूद कांग्रेस नेताओं को मंदिर में रखा सोना ही दिखाई दे रहा है, और मंदिर के सोने को बेचकर ये देश का भला करना चाहते है 

सेक्युलर जमात के लोग भी इस बात से सहमत है की मंदिर के सोने को जल्द से जल्द बेच दिया जाये, हालाँकि कोई भी चर्च और वक्फ बोर्ड के पास हो जमीनें है उसे टच करने की बात भी नहीं कह रहा है 

वैसे इन धार्मिक स्थलों में जितना सोना है उस से जो पैसा आएगा, उस से भी कहीं ज्यादा पैसा तो खुद कांग्रेस नेताओं के पास है, ऊपर तस्वीर में कुछ कांग्रेस नेता आप देख सकते है, सिर्फ इन्ही कुछ कांग्रेस नेताओं के पास कई लाख करोड़ की संपत्ति है 

जिंदल, वाड्रा, डीके शिवकुमार, मल्लिकार्जुन खड्गे, चिदंबरम बाप बेटे, और खुद सोनिया और राहुल गाँधी, मंदिर के सोने की जगह इन कांग्रेस नेताओं से पैसा लिया जाना चाहिए

वैसे भी ये कांग्रेस नेता तो जनता का भला करने के लिए ही धरती पर पैदा हुए है, ऐसे में उन्हें तुरंत अपनी संपत्ति बेचकर जनता की सेवा में लगा देना चाहिए, क्यूंकि इनका तो मुख्य काम ही जनता की सेवा करना है और ऐसे समय में जब देश पर मुसीबत है तो कांग्रेस नेताओं को साबित कर देना चाहिए की ये जनता के सबसे बड़े हितैषी है 

कांग्रेस के नेता मंदिर के सोने को बेचने की मांग कर रहे है, इस देश की जनता को कांग्रेस नेताओं की संपत्तियां बेचकर पैसा मांग लेना चाहिए, सिर्फ कुछ कांग्रेस नेताओं के पास ही कई लाख करोड़ रुपए रखे हुए है full-width