लोगो के बीच बोली - हमारे बसें बॉर्डर पर खड़ी है, योगी ने मांगी बसें तो बोली - आने में टाइम लगेगा


झूठ फरेब और नौटंकी की राजनीती ही कांग्रेस की राजनीती है और ये बात एक बार फिर साबित हो गयी, लोगो के बीच कुछ और वहीँ लिखित में सरकार से कुछ और, और बाद में लिस्ट भी फर्जी 

प्रियंका वाड्रा मजदूरों की मसीहा बन रही थी और योगी सरकार को कह रही थी की - मैं 1000 बसें देती हूँ, उसमे मजदूरों को बिठाओ 

प्रियंका वाड्रा ने बयानबाजी कर वाहवाही बंटोर ली, पर गड़बड़ तब होने लगी जब योगी सरकार ने बसों की लिस्ट मांग ली

प्रियंका वाड्रा की कांग्रेस ने फिर आनन् फानन में एक लिस्ट बनाई और योगी सरकार को दे दी, जांच किया गया तो लिस्ट फर्जी निकली, अधिकतर बसें तो है ही नहीं, और कुछ नंबर तो स्कूटर, मोटर साइकिल और 3 पहिया वाहन के निकल गए 

इसके बाद भी प्रियंका वाड्रा ने झूठ बोलने का सिलसिला जारी रखा और ये त्वीट 17 मई किया और कहा की - हमारी बसें तो उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर तैनात है



प्रियंका वाड्रा ने ये त्वीट 17 मई को किया और लोगो को बताया की उनकी बसें बॉर्डर पर खड़ी है, अब 19 मई को प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव उत्तर प्रदेश सरकार को क्या कह रहे है वो देखिये 


प्रियंका वाड्रा 17 मई को कह रही थी की उनकी बसें उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर तैनात है, वहीँ 19 मई को उनका सचिव कह रहा है की - बसें अभी आ रही है, अभी आने में टाइम लगेगा, इंतज़ार कीजिये 

देश में मजदुर मुसीबत में है, अगर आप उनकी मदद कर सकते है तो कीजिये, अगर नहीं कर सकते तो उन मजदूरों के नाम पर झूठ और बेशर्मी की राजनीती तो मत कीजिये