अब मुस्लिम भीड़ ने बागपत की मस्जिद से पुलिस पर हमला किया, कांस्टेबल का खून निकाला


अभी बिहार में मधुबनी जिले की मस्जिद से बिहार पुलिस पर हुए हमले का मामला शांत हुआ ही नहीं था कि अचानक ही है एक और बड़ी खबर उत्तर प्रदेश से आनी शुरू हुई है। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले से आ रही खबर के अनुसार एक मस्जिद से उत्तर प्रदेश पुलिस पर पथराव किया गया है। 

इस मस्जिद में नमाजियों की भारी भीड़ जमा होने का अंदेशा पुलिस को मिला था जिसके चलते पुलिस ने मस्जिद से भीड़ हटने का इशारा किया था। लेकिन हैरानी की बात तो यह है की योगीराज में इस प्रकार का दुस्साहस किया जाएगा यह किसी को अनुमान भी नहीं था। मस्जिद से किसी प्रकार का कोई कानूनी सहयोग नहीं हुआ बल्कि सीधे सीधे पुलिस पर पथराव शुरू हो गया।

तबलीगी जमात द्वारा दिल्ली में किए गए कुकृत्य के बाद पूरे देश में हाई अलर्ट है और आम जनता को वायरस जिहाद लेकर घूम रहे ऐसे असामाजिक तत्वों से बचाने के लिए पुलिस प्रशासन दिन-रात एक कर कर अपनी जान पर खेलते हुए ऐसे मजहबी स्थलों से होने वाली हर गतिविधि पर नजर रखे हुए हैं। इसी सतर्कता के चलते बागपत में एक मस्जिद के अंदर भारी जमावड़ा की सूचना पुलिस को प्राप्त हुई थी .. 

इस जमावड़े को खत्म करने के लिए पुलिस ने पूरा समय और पूरा अवसर दिया लेकिन बदले में मस्जिद के अंदर से पुलिस के ऊपर पत्थर मारे गए जिसमें एक हेड कांस्टेबल जनता को उन पत्थरों से बचाता हुआ घायल हो गया है जिसको इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है..

बागपत के पुराना कस्बा चौकी क्षेत्र का ये मामला बताया जा रहा जब गत मंगलवार शाम पुलिस को जानकारी मिली कि कस्बे की एक मस्जिद में नमाज अदा की जा रही है। वह पुलिस टीम के साथ वहां पर पहुंचे, तो मस्जिद के गेट पर 20-25 जोड़ी चप्पल-जूते मिले। थोड़ी देर बाद मस्जिद से लोग निकलने शुरू हो गए। उनसे रोक के बावजूद नमाज अदा करने की वजह पूछी तो उन्मादियों ने पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। एक पत्थर हेड कांस्टेबल प्रदीप कुमार के पैर में लग गया। 

मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। सीओ ओमपाल सिंह का कहना है कि मस्जिद में पथराव नहीं हुआ, बल्कि किसी बच्चे ने एक पत्थर फेंका है। इस मामले में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। यहां सवाल यह भी खड़ा हुआ है कि इबादत गाह के अंदर पत्थर आए कहां से और उन पत्थरों का किसी इबादत गाह में प्रयोग क्या था। क्या कोई बड़ी साजिश भविष्य में रची जा रही थी जो पुलिस के आने से नाकाम हो गई। इस मामले में पुलिस सक्रियता बरतते हुए आगे की कार्यवाही में जुटी हुई है…