चीन ने VITO पॉवर का इस्तेमाल कर UN सुरक्षा परिषद् में कोरोना पर डिबेट को रोका, खुद के पोल खुलने का डर



कोरोना वायरस चीन का बायो केमिकल हथियार है जिसे चीन ने दुसरे देशों को तबाह और बर्बाद कर देने के लिए बनाया है, कोरोना वायरस को लेकर अब दुनिया में आतंक मचा हुआ है और अब अलग अलग देशों में चीन को लेकर तरह तरह की बातें होने लगी है

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प तो शुरू से ही कोरोना वायरस को चीनी वायरस बताते आये है, संयुंत राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में कुछ परमानेंट सदस्य है इन देशों में अमेरिका, चीन, रूस, फ़्रांस और ब्रिटेन शामिल है, इसके साथ साथ कई अस्थाई मेम्बर भी है जिसमे भारत समेत कई देश शामिल है

अब खबर ये सामने आ रही है की चीन ने वीटो पॉवर का इस्तेमाल करते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में कोरोना को लेकर होने वाली डिबेट को रोक दिया है, बता दें की संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में एक एक करके सभी परमानेंट देशों के पास कुछ समय के लिए परिषद् अध्यक्ष का पद रहता है और अभी ये पद चीन के पास ही है

जिस तरह हमारी सुप्रीम कोर्ट में मुख्य जज के पास ये शक्ति होती है की कौन सा केस किस जज के पास जायेगा उसी तरह UNSC में जिस देश के पास अध्यक्ष का पद होता है वही देश ये तय करता है की सुरक्षा परिषद् में किस मुद्दे पर चर्चा होगी, चूँकि चीन के पास ही ये पद है इसलिए उसने कोरोना पर होने वाली चर्चा को कैंसिल कर दिया है

चीन सुरक्षा परिषद् में कोरोना पर कोई चर्चा नहीं चाहता क्यूंकि चीन को शक है की अगर चर्चा हुई तो वो फंस जायेगा, उसकी पोल खुल जाएगी और अगर चर्चा के बाद वोटिंग हुई तो चीन के खिलाफ कोई प्रस्ताव भी पारित हो जायेगा, इसी चलते चीन ने चर्चा को कैंसिल कर दिया 

चीन की इस हरकत के बाद इस बात को और बल मिल जाता है की कोरोना वायरस और दुनिया में आये संकट के पीछे चीन का ही हाथ है