दिल्ली से UP-बिहारी मजदुर भाग रहे, ये बांग्लादेशी-रोहिंग्या घुसबैठिये किसके भरोसे रुके हुए है ?



उत्तर प्रदेश और बिहार के देहाड़ी मजदुर तो देश के हर कोने में है, ये लुधियाना में भी है, असम में भी है, मुंबई में भी है, बेंगलुरु, कर्णाटक, इंदौर हर जगह है, पर भगदड़ सिर्फ दिल्ली में ही क्यों मची है, ये सोचने वाली बात है

इसके अलावा दिल्ली से सिर्फ बिहारी और उत्तर प्रदेश के मजदुर क्यों भाग रहे है ? ये बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुस बैठीये किसके भरोसे दिल्ली में रुके हुए है, ये भी सोचने वाली बात है

केजरीवाल के अनुसार उसकी सरकार दिल्ली में रोज 4 लाख गरीबों को खाना खिला रही है, अब उत्तर प्रदेश और बिहार के गरीबों को तो भगा दिया तो ये राज्य सरकार कौन से 4 लाख को खाना परोस रही है, जवाब सीधा सा ये है की केजरीवाल का पूरा तंत्र बांग्लादेशियों और रोहिंग्या घुसबैठियों की सेवा में लगा है और इसी तंत्र ने दिल्ली से उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूरो को भगाया है

देर रात केजरीवाल के तंत्र ने उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूरों वाली झुग्गियों, मुहल्लों, इलाकों में अनाउंसमेंट करवाया की - आनंद विहार में बसे लगी हुई है अपने अपने राज्य चले जाओ

अनाउंसमेंट के अलावा केजरीवाल के ही तंत्र ने व्हाट्सऐप पर तेजी से अफवाह फैलाया की - आनंद विहार में बसें लगी हुई है, अपने अपने राज्य चले जाओ और इसी के बाद दिल्ली में भगदड़ मच गयी

इसके साथ साथ केजरीवाल के तंत्र ने दिल्ली में उन इलाकों में पानी की सप्लाई को भी काटा जहाँ बड़े पैमाने पर बिहारी और उत्तर प्रदेश के मजदुर रहते है, केजरीवाल के तंत्र ने लोगो को डराया की यहाँ तुम प्यासे मर जाओगे भाग जाओ

इसके साथ साथ केजरीवाल के तंत्र ने ही दिल्ली में जगह जगह डीटीसी बसें चलानी शुरू कर दी और लोगो को लाखों की संख्या में इन्ही बसों ने आनंद विहार पर छोड़ दिया और वहां अफरा तफरी मच गयी 

ये पूरा खेल दिल्ली से उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूरों को भागकर उनकी जगह दिल्ली की फैक्ट्रीयों, सोसाइटीयों और पुरे सिस्टम में बांग्लादेशियों और रोहिंग्यों को सेट करने के लिए खेला गया, साथ ही लॉक डाउन फेल हो गया है ये साबित करके मोदी के खिलाफ माहौल बनाने के लिए भी ये खेल खेला गया, केजरीवाल ने अपनी शातिरता एक बार फिर दिखा दी