'ईसाइयत अपनाने से कोरोना नहीं होगा', गरीब हिन्दुओ के बीच आया मिशनरी, कूटकर भगाया गया



एक तरफ दुनिया कोरोना नामक महामारी से जूझ रही है पर इस दौर में भी कुछ मजहबी उन्मादी अपने धंधे में लगे हुए है, भारत में मिशनरियां बड़े पैमाने पर एक्टिव है और ये इतनी गिद्ध मानसिकता की होती है की जब भी कोई आपदा होती है ये उस आपदा के बहाने धर्मांतरण की कोशिशें तेज कर देती है 

कोरोना को लेकर इन दिनों लोगो के मन में खौफ है, और इसाई मिशनरियां गरीब हिन्दुओ के बीच पहुंचकर धर्मातंरण की कोशिश कर रही है, गरीब और भोले भाले हिन्दुओ के बीच मिशनरियों के एजेंट पहुंचकर कहते है की - ईसाइयत अपना लो तो कोरोना नहीं होगा, लोगो को लालच दिया जाता है, भ्रमित किया जाता है और धर्मांतरण किया जाता है 

ऐसा ही तमिलनाडु के निलगिरी में देखने को मिला जहाँ एक इसाई मिशनरी गरीब हिन्दुओ के पास पहुंचा और कहने लगा की ईसाइयत अपनाने से कोरोना नहीं होगा 

लोगो ने इस इसाई मिशनरी को कूट कर भगाया, देखिये एक विडियो 

सिर्फ तमिलनाडु में ही ऐसा नहीं हो रहा है बल्कि इसाई मिशनरियां देश के हर हिस्से में कोरोना के नाम पर गरीब हिन्दुओ के धर्मांतरण की कोशिश कर रही है 

इसाई मिशनरियों के अलावा इस्लामिक उन्मादी भी जमकर प्रोपगंडा कर रहे है की नमाज़ पढने से, इस्लाम मजहब का होने से कोरोना नहीं होगा 

आपकी जानकारी के लिए बता दें की इटली जो की इसाई देश है और सऊदी अरब, ईरान जो इस्लामी देश है वहां भी बड़े पैमाने पर लोगो को कोरोना हुआ है और हजारो की मौत हो चुकी है