रोते हुए व्यक्ति ने बताया, स्पेन में बूढों के वेंटीलेटर हटा रहे डाक्टर ताकि जवानों को दिया जा सके, हालात बेहद ख़राब



कोरोना इतना खतरनाक वायरस है की वो इन्सान के शरीर में घुसते ही अपना असर नहीं दिखाता, लक्षण आने में ही 10 दिन तक लग जाते है और इस दौरान वो शरीर को बहुत कमजोर कर चूका होता है 

बूढ़े लोगो को सबसे ज्यादा समस्या है क्यूंकि उनका शरीर कमजोर हो चूका होता है और वायरस उन्हें और ज्यादा कमजोर कर देता है, अब स्पेन के इतने बुरे हालात हो चुके है की वहां पर वेंटीलेटर्स की भारी कमी है और इसके चलते ये खबरें सामने आ रही है की डाक्टर खुद बूढ़े लोगो के वेंटीलेटर हटा रहे है ताकि वो वेंटीलेटर किसी जवान के काम आ सके

स्पेन के हालात इतने ख़राब है की वहां बूढ़े लोगो को मरने के लिए छोड़ दिया जा रहा है, वेंटीलेटर की कमी है और जवानों को बचाना सरकार की प्राथमिकता है

स्पैम में 70 हज़ार से ज्यादा लोगो को अब कोरोना हो चूका है और मरने वालो का आंकड़ा 7 हज़ार के पास पहुँच गया है, बीमार होने वाले लोगो की संख्या में रोज ही 3-4 हज़ार की बढ़ोतरी हो रही है, सुनिए ये शख्स अपने देश के बारे में क्या कह रहा है 

रोते हुए ये स्पेन का शख्स बता रहा है की उसके देश में हालात इतने ख़राब है की मज़बूरी में ही डाक्टरों को बूढों के वेंटीलेटर हटाने पड़ रहे है ताकि वो किसी जवान पीड़ित के काम आ सके 

स्तिथि बहुत गंभीर है, डाक्टर और सरकार किसी बूढ़े को जान के नहीं मार रही बल्कि मज़बूरी में जवानों को बचाने के लिए ऐसा करना पड़ रहा है, स्पेन में ये स्तिथि है और अगर ये वायरस भारत में स्पेन की तरह ही फ़ैल गया तो यहाँ क्या हो सकता है उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती