सेक्युलर टट्टी है शिकारा फिल्म, हिन्दुओ के नरसंहार को बना दिया सेक्युलर मजाक और बेहूदा लव स्टोरी, धो दिए जिहादियों के पाप !



ऐसे ही बॉलीवुड को सेकुलरिज्म नामक जहर फैलाने वाला और इस्लामिक आतंकवाद को छुपाने वाला वैश्यालय नहीं कहा जाता, बॉलीवुड ने शिकारा मूवी के साथ एक बार फिर साफ़ कर दिया की वो किस स्तर का घृणित वैश्यालय है

विधु विनोद चोपड़ा नामक फिल्मबाज़ ने एक फिल्म बनाई है और इसका नाम है शिकारा, बताया जा रहा था की इस फिल्म के जरिये कश्मीर में हिन्दुओ पर हुए अत्याचारों को दिखाया जायेगा, दुनिया को सच बताया जायेगा, दुनिया को आतंकवाद के जहर के बारे में जागरूक किया जायेगा

ये फिल्म अब रिलीज हो चुकी है और हिन्दुओ के नरसंहार, हिन्दू महिलाओं के बलात्कार, मंदिरों को लूटने, तोड़ने और जलाने की घटनाओं का इस फिल्म में सेक्युलर मजाक बना दिया गया है और इस फिल्म में इस्लामिक आतंकवादियों के पापों को पूरी तरह धोने का घृणित प्रयास किया गया है

लोग बड़ी उम्मीद से इस फिल्म को ये सोचकर देखने गए थे की इस फिल्म में सच को बताया जायेगा पर कश्मीर के पीड़ित हिन्दू क्या कह रहे है ये आपको देख लेना चाहिए

देखिये किस प्रकार एक कश्मीरी हिन्दू महिला ने अपने विचारों को व्यक्त किया 

बॉलीवुड ने शिकारा नामक फिल्म को बनाया है पर ये पूरी तरह सेक्युलर टट्टी है, हिन्दुओ के नरसंहार को इस फिल्म ने सेक्युलर मजाक बनाकर रख दिया, जिहादियों के पापों को पूरी तरह धोने का घृणित पाप किया और बॉलीवुड ने फिर बता दिया की वो एक घृणित वैश्यालय है