मजहबी भीड़ ने घरों में घुस घुस कर लोगो को मारा, दर्जनों का बहाया खून, घरों में लूटपाट भी की, खौफ की स्तिथि



दिल्ली के जाफराबाद में रविवार सुबह से ही आतंक फैला रहे मजहबी उन्मादियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस लगी रही। सोमवार की सुबह करीब 9 बजे के बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ने शुरू कर दिए। इसके जवाब में मजहबी उन्मादियों ने घरों में घुसकर तोड़फोड़ शुरू कर दी।

मजहबी भीड़ अल्लाह हु अकबर के नारे लगाते हुए घरों में घुसकर लोगों को पीटना शुरू कर दिया। वो करीब चार घंटे तक घरों पर पत्थर बरसते रहे। मजहबी आतंकवादी के आतंक को देखकर लोगो ने अपने दरवाजे और खिड़कियाँ बंद कर ली 

जिन लोगो के दरवाजे और खिड़कियाँ मजबूत थी वो तो सुरक्षित रहे पर जिनके नहीं थे वहां मजहबी उन्मादियों ने जबरजस्त आतंक मचाया, मारपीट के अलावा घरों में लूटपाट भी की और दर्जनों का खून बहाया
जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास मजहबी उन्मादियों ने सीएए-एनआरसी के नाम पर जमकर कई घंटों तक आतंक मचाया। पुलिस एक तरफ मजहबी उन्मादियों को खदेड़ रही थी तो दूसरी तरफ से उन्मादी पथराव शुरू कर दे रहे थे। इसके बाद पुलिस की मौजूदगी में ही कई दुकानों में आग लगाने के साथ सैकड़ों घरों के शीशे तोड़ दिए गए। 

पुलिस की ओर से रह-रह कर डंडा फटकारा जा रहा था, लेकिन मजहबी उन्मादी घरों पर पथराव करते रहे। इस दौरान मजहबी उन्मादियों ने 20 से अधिक लोगों को पीट-पीटकर लहूलुहान कर दिया। मजहबी उन्मादियों ने लोगों को इतना पीटा कि वो अधमरे से हो गए। मौके पर घायलों को किसी तरह की सुविधा भी नहीं मिल पाई। 

हिंसा के दौरान मजहबी उन्मादियों ने दुकान का ताला तोड़कर लूटपाट का भी प्रयास किया। करीब छह-सात घंटे तक आतंक जारी रहा, जिसके बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने संज्ञान लेते हुए पुलिस को कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके बाद राजधानी के 10 जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है।