पुलिस ने महेश भट्ट से कहा था की गुलशन कुमार को इनफार्मेशन दे देना पर..., फिर सुबह मिली लाश, कर दी गयी हत्या



गुलशन कुमार जबतक जिन्दा थे तबतक बॉलीवुड का इस्लामीकरण नहीं हो सका था, वो बॉलीवुड के इस्लामीकरण में एक बड़ा रोड़ा थे और इसी कारण इस्लामिक आतंकवादियों ने उनको रस्ते से हटा दिया 

गुलशन कुमार की एक आदत थी की वो रोज सुबह सबसे पहले एक शिव मंदिर जाते थे, उनकी ये रोज की दिनचर्या थी, वो अपने घर से निकलते, मंदिर जाते और फिर अपने काम पर जाते 

उनकी हत्या अबू सलेम ने करवाई थी और उनकी हत्या से पहले पूरी तरह से रेकी और साजिश की गयी थी और उनपे हमले से पहले एक खबरी ने साजिश की जानकारी पुलिस को भी दी थी 

मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने अब खुलासा किया है की एक खबरी ने मुझे बताया था की - सर गुलशन कुमार का विकेट गिरने वाला है, मारिया ने पुछा की कौन लेगा विकेट तो खबरी ने बताया की अबू सलेम, उसने अपने शूटर के साथ सब तय किया है 

खबरी ने राकेश मारिया जो की उस समय पुलिस अधिकारी थे को बताया की गुलशन कुमार रोज सवेरे एक शिव मंदिर जाते है, अबू सलेम ने शूटर के साथ उनको रस्ते में मारने का प्लान बनाया है 

राकेश मारिया के पास ऐसी जानकारियां अलग अलग खबरियों से आती रहती थी जिसके बाद वो लोगो को आगाह करते थे, उन्होंने उस समय महेश भट्ट को कहा की गुलशन कुमार को ये इनफार्मेशन दे दे की मंदिर के रास्ते में उनपर हमला हो सकता है इसलिए वो सावधान हो जाये इसके अगले ही दिन गुलशन कुमार पर हमला होता है और उनकी हत्या कर दी जाती है




महेश भट्ट एक फिल्म डायरेक्टर है और ये शख्स काफी लम्बे समय से इस्लामिक उन्मादियों के साथ जुड़ा हुआ है, ये नाम से हिन्दू है पर इसकी गतिविधयां हमेशा से संदिग्ध रही है



ये इस्लामिक आतंकवादी जाकिर नाइक के साथ भी उठता बैठता रहा है, ये 26/11 के हमले को आरएसएस की साजिश बताने वाले कार्यक्रम में भी शामिल था और साथ ही साथ इसका बेटा राहुल भट्ट 26/11 के आतंकवादी डेविड हेडली का दोस्त भी था 



राकेश मारिया ने इसे फिल्म डायरेक्टर समझ कर गुलशन कुमार जो की एक बड़े प्रोडूसर थे उन्हें साजिश को लेकर आगाह करने के लिए कहा था और इसके अगले ही दिन उनकी हत्या हो गयी, महेश भट्ट के खिलाफ आजतक इसे लेकर कोई जांच नहीं हुई है