कांस्टेबल रतन लाल की हत्या का मजहबी उन्मादी मना रहे जमकर जश्न, उन्मादियों ने ड्यूटी पर उतार दिया था मौत के घाट


दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल रतन लाल अब इस दुनिया में नहीं रहे, मजहबी उन्मादियों ने दिल्ली के जाफराबाद इलाके और आसपास सड़कों पर कब्ज़ा कर लिया था जिसके बाद सुरक्षा की स्तिथि को देखते हुए दिल्ली पुलिस को तैनात किया गया था 

दिल्ली में शांति स्थापित करने के मकसद से कांस्टेबल रतन लाल भी ड्यूटी पर तैनात थे, की मजहबी उन्मादियों ने मजहबी नारे लगाते हुए उन्हें मौत के घाट उतार दिया 

कांस्टेबल रतन लाल को लेकर फिर मीडिया ने खबरें लिखना शुरू कर दिया और उनकी हत्या पर अब मजहबी उन्मादियों का जश्न भी देखने को मिलने लगा है 

वैसे ये कोई नयी बात नहीं है, पुलवामा हमला हो, चाहे सेना पुलिस पर अन्य हमले, चाहे राष्ट्रवादियों की हत्या हो, मजहबी उन्मादी हर बार इस तरह का जश्न मनाते है और अब कांस्टेबल रतन लाल की हत्या पर जश्न मना रहे है 


टाइम्स नाउ ने एक खबर लिखी थी और लिखकर बताया था की - कांस्टेबल रतन लाल ने अपने बच्चों को वादा किया था की इस बार की होली वो सब अपने गाँव में मनाएंगे 

इस खबर पर मजहबी उन्मादियों ने जमकर जश्न मनाया जो आप नीचे देख सकते है, 1 हज़ार 600 लाइक्स में अधिकतर लोगों ने दुःख, गुस्सा व्यक्त किया पर 13 ऐसे भी थे जो की हंस कर जश्न मना रहे थे, और अभी मजहबी उन्मादी ही थे 


ये सिर्फ 1 उदाहरण है, सोशल मीडिया पर न्यूज़ चैनल्स या अन्य पेज पर भी मजहबी उन्मादी इसी तरह कांस्टेबल रतन लाल की हत्या का जश्न मना रहे है और अपनी आतंकी मानसिकता का सबूत दे रहे है