दिल्ली में चुने गए 43 MLA पर है बलात्कार, हत्या की साजिश जैसे गंभीर मामले, अपराधियों से भरी हुई है विधानसभा



दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीतने वाले 61% विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसका खुलासा एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट में हुआ है। ADR के अनुसार दिल्ली विधान सभा चुनावों से जीतकर आए 70 में से 43 विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं और 37 विधायक, यानि लगभग 53% विधायक ऐसे हैं, जिनके खिलाफ खतरनाक आपराधिक मामले दर्ज हैं।

नामांकन पत्र दाखिल करते समय प्रत्याशियों के चुनाव आयोग के समक्ष पेश किये गए हलफनामे के आधार पर दिल्ली इलेक्शन वाच और एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफार्म्स (ADR) ने विश्लेषण करके यह जानकारी दी है।

ADR की रिपोर्ट के अनुसार 9 विधायक ऐसे हैं, जिनके अपराध कोर्ट में साबित भी हो चुके हैं। इनमें 1 विधायक के ऊपर हत्या के षडयंत्र का अपराध साबित भी हो चुका है। आम आदमी पार्टी (AAP) के जीते हुए 62 में से 38 विधायकों (61%) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं, जबकि भारतीय जनता पार्टी (BJP) के 8 में से 5 विधायकों के खिलाफ मामले दर्ज हैं।

 दिल्ली में नवनिर्वाचित 70 में से 52 विधायक करोड़पति हैं, जबकि वर्ष 2015 में इनकी संख्या 70 में से मात्र 44 थी। AAP के 62 में से 45 और भाजपा के आठ में से सात विधायक करोड़पति हैं, यानि इनकी घोषित संपत्ति एक करोड़ रुपए से अधिक है। इस प्रकार आम आदमी पार्टी के 62 विधायकों की औसतन संपत्ति 14.96 करोड़ रुपए है।

इनमें सबसे अधिक संपत्ति वाले तीनों विधायक आम आदमी पार्टी के ही हैं। इनमें धर्मपाल लाकड़ा, विधायक- मुंडका, की कुल संपत्ति 292 करोड़ रुपए है। जबकि प्रमिला टोकस, विधायक- आर के पुरम की कुल संपत्ति 80 करोड़ रुपए और राजकुमार विधायक- पटेल नगर की कुल संपत्ति 78 करोड़ रुपए है।

यदि शिक्षा की बात करें तो चुने गए 70 MLA में से 2 विधायक मात्र 8वीं पास हैं, 7 विधायक 10वीं पास, 14 विधायक 12वीं पास, 15 विधायक ग्रेजुएट, 9 ग्रेजुएट प्रोफेशनल, 18 पोस्ट ग्रेजुएट और 5 अन्य शिक्षा प्राप्त हैं।