मुस्लिमो ने दिखाई जबरजस्त एकता, हिन्दुओ के वोट में जबरजस्त विभाजन, 200 यूनिट बिजली और महिलाओं के फ्री बस के लिए हिन्दुओ ने खुद को बेचा


दिल्ली में विधानसभा चुनावों के नतीजे आ चुके है और फिर से एक बार आम आदमी पार्टी दिल्ली जीत चुकी है, अरविन्द केजरीवाल फिर से दिल्ली के मुख्यमंत्री बनेंगे 

दिल्ली में पिछले 5 सालों में जो हुआ और केजरीवाल ने जो भी कारनामे किये, आम आदमी पार्टी ने जो कारनामे किये उसके बाद भी दिल्ली में आम आदमी पार्टी जीत गयी 

और आम आदमी पार्टी की जीत के पीछे 2 सबसे बड़े कारण रहे 200 यूनिट बिजली और महिलाओं का फ्री बस और मुसलमानो की एकता और बीजेपी के खिलाफ एकजुट होकर वोट 

दिल्ली में मुस्लमान वोटर्स 12% है और सभी ने एकजुट होकर बीजेपी के खिलाफ वोट किया, वहीँ हिन्दू समाज के वोट में जबरजस्त विभाजन हुआ, अधिकतर हिन्दुओ ने भी केजरीवाल की पार्टी को वोट दिया 

मुसलमानो ने तो मजहब के लिए बीजेपी के खिलाफ वोट दिया पर हिन्दुओ ने 200 यूनिट फ्री बिजली और महिलाओं के फ्री बस के लिए खुद के वोट को बेच दिया और भारतीय सेना को झूठा बताने वाले शख्स को, हिन्दू धर्म के खिलाफ जहर उगलने वाले शख्स को फिर से दिल्ली में मुख्यमंत्री बना दिया 

दिल्ली चुनावों से एक चीज तो साफ़ हो गयी की इस देश के अधिकतर हिन्दू मतदाता को न धारा 370 से मतलब है, न राम मंदिर से मतलब है, न ही CAA NRC से मतलब है, न ही हिन्दू धर्म से ही कुछ मतलब है, इस देश के अधिकांश हिन्दुओ को सिर्फ खुद को मिलने वाले कैश बेनिफिट से मतलब है बाकि उसे किसी चीज से कुछ लेना देना नहीं, सिर्फ उसे कैश बेनिफिट चाहिए