UN ने नागरिकता बिल पर कमेंट करने से किया इंकार, भारत का है अंदरूनी मामला



भारत विरोधियों ने बहुत कोशिश करी की भारत पर कैसे भी इंटरनेशनल प्रेशर बनाया जाये और भारत को झुकाया जाये, पर नरेंद्र मोदी सरकार ने अब भारत को इतना मजबूत कर दिया है की भारत विरोधियों के सारे मनसूबे फेल हो रहे है 

दरअसल केंद्र सरकार नागरिकता संसोधन बिल लेकर आई है, इस बिल का भारतीय मुसलमानों से दूर दूर तक कुछ भी लेना देना नहीं है, ये बिल तो पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश के हिन्दुओ सिखों आदि को बचाने के लिए है 

पर इस बिल के विरोध में भारत विरोधियों ने जबरजस्त प्रोपगंडा चला रखा है और संयुक्त राष्ट्र से लेकर हर जगह भारत की शिकायतें की जा रही है 

पर संयुक्त राष्ट्र से अब भारत विरोधियों को जोरदार तमाचा पड़ गया है क्यूंकि संयुक्त राष्ट्र ने भारत के नागरिकता संसोधन बोल पर कोई भी आधिकारिक बयान जारी करने से इंकार कर दिया है 

भारत में कोई कानून पास होता है या संसद में कोई कानून लाया जाता है तो वो भारत का अंदरूनी मामला है, पहले के दौर में भारत विरोधी शक्तियां भारत पर इंटरनेशनल प्रेशर बनाने में कामयाब होती थी पर अब मोदी सरकार के दौरान भारत इतना मजबूत हो चूका है की UN ने भारत के मामलों में दखल देना ही बंद कर दिया है और कोई बयान जारी करने से भी UN अब इंकार कर रहा है 

बता दें की नागरिकता संसोधन बिल का भारत विरोधी न केवल भारत में विरोध कर रहे है, पाकिस्तान भी इस बिल का विरोध कर रहा है, इस बिल पर कांग्रेस और उसके सहयोगियों तथा पाकिस्तान की भाषा 1 हो चुकी है