ये सेक्युलर प्रदुषण है, इसलिए इसपर ज्ञान देने वाला 1 भी बुद्धिजीवी नहीं मिलेगा



जिस तस्वीर को आप देख रहे है, अगर आप नहीं समझ पा रहे की ये क्या है तो हम आपको बता दें की ये सेक्युलर प्रदुषण है और इसके खिलाफ बोलने वाला, इसपर ज्ञान देने वाला आपको 1 भी बुद्धिजीवी इस देश में नहीं मिलेगा 

अक्सर आपने देखा होगा की गणेश उत्सव पर, दिवाली पर, होली पर और अन्य कई हिन्दू त्योहारों पर बहुत से बुद्धिजीवी प्रदुषण वाला ज्ञान आपको देने के लिए सोशल मीडिया पर प्रकट हो जाते है 

कोई बताता है की गणेश उत्सव से प्रदुषण हो रहा है, तो कोई होली से प्रदुषण, दिवाली से प्रदुषण, छठ पूजा से प्रदुषण और हर हिन्दू त्यौहार से प्रदुषण की बात बताता है 

ये तमाम किस्म के बुद्धिजीवी प्रदुषण के नाम पर हिन्दू त्योहारों के खिलाफ जमकर जहर उगलते है, जमकर नफरत फैलाते है और हिन्दू समाज में हीन भावना डालने की कोशिश करते है 

बहुत से सेक्युलर किस्म के हिन्दू लोगो में ये बुद्धिजीवी हीन भावना डालने में कामयाब भी हो जाते है और फिर सेक्युलर हिन्दू भी हिन्दू त्योहारों को कोसते है 

पर अक्सर ये सेक्युलर वर्ग के लोग तथा बड़े बड़े बुद्धिजीवी बकरीद, क्रिसमस, मुहर्रम जैसे विदेशी मजहब के त्योहारों पर मौन हो जाते है गायब हो जाते है 

ऊपर की तस्वीर मुहर्रम की है, ताजिया की है जिसे बड़े पैमाने पर नदियों और नालों में डाल दिया जाता है, गणेश उत्सव पर आपको जमकर ज्ञान मिलेगा पर ताजिया पर ज्ञान देने वाला कोई नहीं है, क्यूंकि बुद्धिजीवी अच्छे से जानते है की ताजिया पर प्रदुषण का ज्ञान देंगे तो उनका चार्ली हब्दो हो जायेगा, और हिन्दू उत्सवों के खिलाफ ज्ञान देंगे तो फिर बुद्धिजीवी का तमगा पा जायेंगे
loading...
Loading...



Loading...