IAS की नौकरी छोड़ कश्मीर में बनाई थी पार्टी, बर्बाद हुआ गद्दार शाह फैसल


जम्मू कश्मीर से धारा 370 को समाप्त कर दिया गया है, इसके साथ साथ ही कई सारे गद्दार पूरी तरह तबाह और बर्बाद हो चुके है 

दशको से गद्दारों ने पूरा आतंकवाद और ब्लैकमेल का धंधा बनाया हुआ था, सेक्युलर सरकारों ने इन गद्दारों के सामने हमेशा से घुटने टेके पर आख़िरकार नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवादी सरकार ने वो कर ही दिखाया जिसकी देश को जरुरत थी 

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटा दी, 35A इसके साथ अपने आप ही समाप्त हो गया, और तत्काल प्रभाव से जम्मू कश्मीर और लद्दाख अब केंद्र शासित प्रदेश बन गया 

जम्मू कश्मीर में अब गद्दारी और मजहबी उन्माद का धंधा चलाने वाले कई गद्दार बर्बाद हो गए, जिसमे शाह फैसल नाम का पूर्व आईएस अफसर भी शामिल है 

पिछले साल ही शाह फैसल ने IAS की नौकरी से इस्तीफा दे दिया था, इसे अच्छी खासी नौकरी मिली हुई थी, ओहदा मिला हुआ था, सुविधाएं भी मिली हुई थी, पर इसे असल में मजहबी उन्माद ही फैलाना था

इसने सोचा नौकरी छोड़ देता हूँ और मजहबी उन्माद के जरिये विधायक, सांसद, और क्या पता मुख्यमंत्री भी बन जाऊ 

शाह फैसल ने आईएस की नौकरी छोड़कर अपनी राजनितिक पार्टी बनाई थी, पर अब केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर में राजनीती करने वालो को झटका देते हुए जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया 

लद्दाख तो चंडीगढ़ जैसा हो गया जहाँ विधानसभा चुनाव नहीं होंगे, वहीँ जम्मू और कश्मीर दिल्ली जैसा हो गया, वहां पर अब पुलिस और सभी अहम् डिपार्टमेंट गवर्नर यानि केंद्र के पास ही रहेंगे

शाह फैसल जो मजहबी उन्माद के जरिये राजनीती की सीढियाँ चढ़ना चाहता था, वो अब पूरी तरह बर्बाद हो गया है, न ही आईएस रह गया, और अब कश्मीर में मजहबी उन्माद शायद ही चले, क्यूंकि सेना के साथ साथ पुलिस भी अब केंद्र के पास ही रहेगी 
loading...
Loading...



Loading...