अब चिदंबरम को कभी भी टांग सकती है CBI और ED, लगातार मिल रही जमानतें ख़त्म, कई बड़े लूट के है मामले


आख़िरकार देश के पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ट नेता पी चिदंबरम को लगातार मिल रही जमानतों का सिलसिला ख़त्म हो गया 

भ्रष्टाचार के मामलों में दिल्ली की अदालतों से पी चिदंबरम को कई बार जमानतें मिली, पी चिदंबरम को बार बार अग्रिम जमानत मिलती थी 

यानि सीबीआई और ED जो पी चिदंबरम के खिलाफ जांच कर रही थी वो उनको गिरफ्तार नहीं कर सकती थी, बार बार पी चिदंबरम को अदालत से अग्रिम जमानत मिलती थी 

पर आज 20 अगस्त को आख़िरकार पी चिदंबरम को बार बार मिल रही जमानतों का सिलसिला ख़त्म हो गया, मामला दिल्ली हाई कोर्ट के सामने था और पी चिदंबरम की अग्रिम जमानत को दिल्ली हाई कोर्ट ने देने से इंकार कर दिया 

यानि अब लूट के मामलों में सीबीआई और ED चाहे तो पी चिदंबरम को टांग सकती है, वैसे अभी पी चिदंबरम के पास सुप्रीम कोर्ट जाकर अग्रिम जमानत की याचिका लगाने का विकल्प बचा हुआ है 

चिदंबरम के खिलाफ लूट के कई मामलों में ED और सीबीआई के पास शिकायतें है, चिदंबरम के अलावा उनके बेटे कार्ति और बीवी के खिलाफ भी लूट के मामले है