राजस्थान में दलित लड़के को मुस्लिम समुदाय के लोगो ने मार डाला, अब उसके अंधे पिता ने की आत्महत्या


मामला राजस्थान के अलवर जिले का है जो की अब कांग्रेस राज में गौतस्कारी और जिहाद के लिए काफी बदनाम हो चूका है 

हरीश जाटव नाम के एक दलित लड़के को मुस्लिम समुदाय ने पीट पीट कर मार डाला, हरीश के पिता रत्तीराम जो की अंधे थे, वो पुलिस के चक्कर काटते रहे पर उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई 

अब रत्तीराम ने त्रस्त होकर खुद भी आत्महत्या कर लिया है, पहले हरीश जाटव और अब उनके पिता रत्तीराम जाटव, 2-2 दलित इस दुनिया से ख़त्म हो गए पर किसी भी दलित चिन्तक और सेक्युलर वर्ग के बुद्धिजीवी ने आह तक नहीं किया है, क्यूंकि मामला कांग्रेस शासित प्रदेश का है, और अपराधी मुस्लिम समुदाय से है 

16 जुलाई को झिवाना गांव निवासी हरीश मोटरसाइकिल से कहीं जा रहा रहा था। रास्ते में उसकी मोटरसाइकिल की एक महिला से टक्कर हो गई। थोड़ी—बहुत कहासुनी होने के चलते वहां मुस्लिम समुदाय की भीड़ जमा हो गई। उन्होंने हरीश को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। 

भीड़ ने उसे मार—मारकर अधमरा कर दिया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां 18 जुलाई की रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। हरीश के मौत के बाद उसके पिता रत्तीराम अपने बेटे के हत्यारों को न्याया दिलाने के लिए पुलिस —प्रशासन के चक्कर काट रहे थे। 

उनका कहना था कि उनके बेटे को निर्ममता से पीट—पीटकर मारा गया है। जबकि पुलिस मामले को मॉब लिंचिंग न बताकर सड़क दुर्घटना बनाकर आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही थी। 

सुनवाई न होने से आहत हरीश जाटव के पिता रत्तीराम ने जहर खा कर आत्महत्या कर ली। रत्तीराम जाटव ने मरने से पहले पुलिस पर मामले में ठीक से जांच न करने समेत कई आरोप लगाए हैं। 
loading...
Loading...



Loading...