माथे पर तिलक और हाथ में कलावा बाँध घुसे हिन्दू मंदिर में और तोड़ दी दुर्गा मूर्ति, बाद में एक निकला आदिल और दूसरा शादाब



ये मजहबी नफरत जिसे जिहाद कहते है उसका क्लासिक उदाहरण है, बिजनोर के एक हिन्दू मंदिर में मुस्लिम समुदाय के 2 लोग हिन्दू बनकर घुसे 

इन्होने हाथ में कलावा बाँध रखा था, साथ ही दिनों ने माथे पर तिलक भी लगाया हुआ था, दोनों हिन्दू लड़कियों के पीछे पीछे मंदिर में घुस गए 

मुसिलम समुदाय के लोगो ने फिर मौका पाकर मंदिर के अंदर राखी माता दुर्गा की मूर्ति को तोड़ दिया, ये मामला बिजनौर जिले के पंचमुखी हनुमान मंदिर का है 

दोनों ने दुर्गा मूर्ति को तोडा पर पकडे गए, बाद में पता चला की ये लोग हिन्दू नहीं बल्कि मुस्लिम है, एक का नाम मोहम्मद आदिल और दूसरे का नाम मोहम्मद शादाब निकला 

पकडे जाने पर दोनों अपना नाम राहुल और मयंक बता रहे थे, ये राहुल और मयंक बनकर हिन्दू मंदिर में घुसे थे और मूर्ति को इन्होने तोड़ दिया 


दोनों को अब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और आगे की कार्यवाही की जा रही है, पर इस घटना से साफ़ हो गया की भारत की मीडिया इन मामलों पर कैसे चुप रहकर मामलों को दबाती है और मजहबी उन्मादी किस स्तर पर जिहाद चला रहे है, ये मंदिरों में कलावा, तिलक के साथ घुस रहे है, हिन्दू नाम के साथ घुस रहे है और जिहाद कर रहे है 
loading...
Loading...



Loading...