जम्मू कश्मीर में हिंसा फैलाने के लिए पति-पत्नी मिलकर फैला रहे फेक न्यूज़, खतरनाक हो चुके है ये भारत के लिए


जम्मू कश्मीर वर्तमान में अति संवेदनशील इलाका है, भारतीय सेना और अन्य सुरक्षा एजेंसीयां वहां तैनात है और शांति का माहौल है 

जम्मू कश्मीर में अशांति फैलाने के पाकिस्तान पूरा जोर लगा रहा है, और पाकिस्तान की मदद बीबीसी जैसे विदेशी मीडिया संस्थान भी कर रहे है 

पर सिर्फ विदेशी मीडिया संसथान ही नहीं बल्कि भारत के कथित पत्रकार भी पाकिस्तान की जबरजस्त मदद कर रहे है और कश्मीर को लेकर एक के बाद एक फेक न्यूज़ फैला रहे है 

पत्रकारिता की कुख्यात जोड़ी सागरिका घोसे और राजदीप सरदेसाई इस काम को बखूबी अंजाम दे रहे है 

कल ही जम्मू कश्मीर पुलिस और साथ ही सरकार ने स्पष्ट किया था की जम्मू कश्मीर में धारा 370 के समाप्त होने के बाद किसी की मौत नहीं हुई है 

पर सागरिका घोसे और राजदीप सरदेसाई दोनों बच्चों की मौत की कहानी सूना रहे है और 2016 के न्यूज़ और 2009 की तस्वीर को आज वर्तमान में फैला रहे है 

नमूना देखिये 



इंडिया टुडे नाम के अंग्रेजी न्यूज़ चैनल पर राजदीप सरदेसाई खबर चला रहा है की सुरक्षा बालों ने कश्मीर में एक बच्चे को मार डाला

उसी खबर को सागरिका घोसे अपने सोशल मीडिया हैंडल पर फैला रही है और इसके साथ साथ 3 साल पुरानी एक न्यूज़ और 10 साल पुरानी तस्वीर भी फैला रही है, ये भी देखीय


आज सागरिका घोसे ने सुबह ये न्यूज़ फैलाई, जबकि ये आर्टिकल 2016 का है और इतना ही नहीं ये तस्वीर जिसमे सुरक्षाकर्मी ने गुलेल पकड़ा हुआ है ये तस्वीर तो 10 साल पुरानी 2009 की है 

सरकार और जम्मू कश्मीर पुलिस पहले ही साफ़ कर चुकी है की जम्मू कश्मीर में 370 हटाये जाने के बाद 1 की भी मौत नहीं हुई है पर सागरिका घोसे और उसका पति राजदीप सरदेसाई बच्चे की मौत की खबर फैला रहा है 

जम्मू कश्मीर में इन फर्जी ख़बरों से हिंसा होती है तो उसकी जिम्मेदारी आखिर किसकी होगी, पत्रकारिता के नाम पर देश के खिलाफ जहर फैलाने वाले एक बड़ा खतरा बन चुके है 

Loading...


Loading...