मिटाया एक और कलंक, लखनऊ के हजरतगंज चौराहे का नाम कर दिया अटल चौराहा, गौरवान्वित है पूरा उत्तर प्रदेश




अब लखनऊ का हजरतगंज चौराहा इतिहास हो चूका है क्यूंकि योगी सरकार ने फिर एक बड़ा फैसला करते हुए इस कलंक को मिटा दिया है 

अब 16 अगस्त से हजरतगंज चौराहे  को अटल चौराहे  के नाम से जाना जायेगा, 16 अगस्त को अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि थी 

अटल बिहारी वाजपेयी लखनऊ से ही लोकसभा के सांसद हुआ करते थे, और उनकी याद में योगी सरकार ने 2-2 बड़े काम किये 

पहला तो ये की एक कलंक "हजरतगंज" को मिटा दिया और उसे मिटाकर अटल जी का नाम दे दिया, हजरतगंज चौराहे  अब अटल चौहरा हो गया 

अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर लखनऊ नगर निगम ने ये काम किया, . लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने कल इसका औपचारिक ऐलान किया, इतना ही नहीं पास ही के इस्माइलगंज स्थित निगम डिग्री कॉलेज को भी अटल जी को समर्पित कर दिया गया 

लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि इस चौराहे का नाम पहले से ही अटल चौक रखे जाने का प्रस्ताव था. लिहाजा आज अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि के मौके पर इस चौक का नाम अटल चौक रखा जा रहा है.

 उन्होंने कहा कि इससे आने वाली पीढ़ी अटल बिहारी वाजपेयी के व्यवहार और कर्तव्यों के बारे में जान सकेगी और उनके विचारों से प्रेरणा ले सकेगी. एक डिग्री कॉलेज का भी नाम बदलकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम किया गया है. सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूर्व प्रधामनमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्य तिथि पर लोकभवन में श्रद्धांजलि दी. 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोकभावन में 25 दिसंबर को अटल जी की 25 फ़ीट की प्रतिमा का लोकार्पण किया जाएगा. अटल जी के नाम पर इंटरनेशनल स्टेडियम का नाम, मेडिकल विश्वविद्यालय का निर्माण होगा. योगी ने कहा कि 18 आवासीय विद्यालय हम अटल जी के नाम पर बनाने जा रहे हैं. 

अटल जी का कहना था कि सिद्धान्त विहीन राजनीति मौत के समान है. अगर मूल्यों की राजनीति नहीं होगी तो समाज को उसका नुकसान उठाना पड़ेगा. अटल जी ने 6 दशकों तक ईमानदारी के साथ आदर्शों की राजनीति की. जम्मू कश्मीर के बारे में अटल जी ने अपनी कविताओं के ज़रिए भाव प्रकट किए. 

आज जम्मू कश्मीर में जो हुआ वो अटल जी को सच्ची श्रद्धांजलि है. अटल बिहारी बाजपेयी की पहली पुण्य तिथि से पहले जम्मू कश्मीर पर फैसला करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है.