नहीं सहा इजराइल ने, बकरीद के नाम पर नमाजियों ने तोडा कानून तो अब इजराइली सेना तोड़ रही नमाजियों को


कानून को तोडना, मजहबी उन्माद फैलाना मजहबी उन्मादियों का सबसे पसंदीदा कार्य है, पर इजराइल एक ऐसा देश है जो उन्मादियों के उन्माद को सहता नहीं है 

और फिर एक बार इजराइल की सेना ने उन्माद मचा रहे मजहबीयों को जमकर तोडा है, इजराइल का सख्त आदेश है की कोई भी सड़क पर नमाज़ नहीं पढ़ेगा, पर उन्मादियों ने उन्माद मचाते हुए सड़क पर ही नमाज़ पढ़ी 

बार बार चेतावनी के बाबजूद नमाजियों ने कानून को तोडा, जिस विवादित भूमि को इजरायल और फिलिस्तीन दोनों अपना बता रहे हैं उसी जगह पर मौजूद अल अक्सा मस्जिद पर जबरन नमाज़ पढने के लिए फिलिस्तीनी बकरीद के दिन जमा हुए थे .. 

जबकि इजरायल ने उन्हें वहां से दूर रहने का आदेश दिया था . इजरायल ने वहां पर भारी पुलिस बल तैनात कर रखा था और किसी भी आपात स्थिति से सख्ती से निबटने का आदेश जारी किया था . फिलिस्तीनी नमाजियों को अल-अक्सा मस्जिद परिसर से हटाने के लिए इजरायल पुलिस ने आंसू गैस, रबर की गोलियां और साउंड ग्रेनेड से हमला किया। 

इजरायल पुलिस के आगे फिलिस्तीनी चिल्ला रहे थे कि : “हमारी आत्मा और खून से अक्साहम तुम्हें छुड़ा लेंगे।” पर पुलिस ने अपनी कार्यवाही जारी रखी और उन्हें वहां से भागने पर मजबूर कर दिया ..

फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन (PLO) के एक वरिष्ठ अधिकारी हनन अशरवी ने इज़राइल पर धार्मिक और राजनीतिक तनाव को भड़काने का आरोप लगाया। 

एक बयान में कहा, “इजरायल के कब्जे वाले अल-अक्सा मस्जिद परिसर का तूफान आज सुबह ईद की खुशी और आक्रामकता का काम करता है।”फलस्तीन के डाक्टरों के अनुसार इजरायल पुलिस के हमले में लगभग 14 नमाज़ी घायल है जिसमे एक की हालत गंभीर है। 

मौके पर हुडदंग मचा रहे उन्मादियो के हिसाब से उनके 2 साथियों को गिरफ्तार कर के अपने साथ ले गई है इजरायली सेना.. 

Loading...


Loading...