श्रीलंका में मुसलमानों की दुकानों का बहिष्कार, सामान नहीं ले रहे लोग, 90% ग्राहकी और कमाई ठप्प


श्रीलंका में पिछले दिनों एक बड़ा इस्लामिक आतंकवादी हमला किया गया था, इस हमले में मूलतः चर्च और होटलों को निशाना बनाया गया था 

काफी लोगो को इस्लामिक आतंकवादियों ने मार दिया था, भारत में भी इस तरह के कई इस्लामिक आतंकी हमले किये जा चुके है 

पर श्रीलंका के लोग भारत के लोगो से काफी अलग है और ये बात अब साबित हो रही है, श्रीलंका में देश ने जैसे मन बना लिया है की वो आतंकवाद को समाप्त करके रहेंगे 

श्रीलंका में अब मुसलमानों की दुकानों का बहिष्कार हो रहा है, श्रीलंका में लोग बाज़ारों में मुसलमानों की दुकानों पर नहीं जा रहे है और मुसलमानों की दुकानों से सामान नहीं ले रहे 

लोगो ने आर्थिक बहिष्कार शुरू कर दिया है और इस कारण मुसलमानों की कमाई अब पहले के मुकाबले बहुत कम हो चुकी है 

कई मुसलमान दुकानदार अब काफी परेशान है उनका कहना है की श्रीलंका में हुए आतंकी हमले से पहले सभी लोग उनकी दुकानों से सामान लेते थे पर अब उनकी दुकानों पर कोई नहीं आता जिसके कारण उन्हें आर्थिक कठिनाइयाँ शुरू हो चुकी है 

मुसलमान दुकानदारो का कहना है की हमारी दुकानों पर 90% ग्राहक कम हो चुके है वो हमारी दुकानों पर आते ही नहीं, इसी कारण हमे नुक्सान हो रहा है 

जानकर मान रहे है की श्रीलंका में समाज एकजुट हो चूका है और अब आतंकवाद को पूरी तरह ख़त्म कर देने का लोग मन बना चुके है और आतंकवाद से मुस्लिम समुदाय को जोड़कर देखा जा रहा है इसी कारण मुसलमानों की दुकानों का बहिष्कार हो चूका है 

जानकर ये भी मान रहे है की श्रीलंका के हालात फिर से सामान्य होने में काफी लंबा समय लग सकता है, लोग आतंकी हमले को भूल नहीं पा रहे है 
loading...
Loading...



Loading...