2010 में गृहमंत्री चिदंबरम ने अमित शाह को डाला था जेल में, अब चिदंबरम फरार और अमित शाह उनके पीछे



कहते है कर्म का फल मिलकर ही रहता है, कई बार जन्म के बाद मिलता है तो कई बार जीते जी भी मिल जाता है और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम का समय अब कदाचित आ गया 

साल था 2010 जब पी चिदंबरम खुद इस देश के गृहमंत्री थे, पी चिदंबरम ने तत्कालीन गुजरात के मंत्री अमित शाह को जेल के अन्दर डाल दिया था, केस झूठा था, उस केस में अमित शाह को अब सुप्रीम कोर्ट से भी क्लीन चिट मिल चुकी है 

पी चिदंबरम ने अमित शाह को जेल में डाला था, और इतना ही नहीं पी चिदंबरम तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को भी जेल के अन्दर डालने का षड्यंत्र रच रहे थे 

अब साल 2019 है और अब वक्त का पहिया एकदम बदल चूका है, और अब इस देश के गृहमंत्री खुद अमित शाह है जिन्हें पी चिदंबरम ने जेल में डाला था, और गुजरात राज्य से बाहर भी निकलवा दिया था 

लूट के मामलों में पिछले कई साल से चिदंबरम को लगातार निचली अदालतों से राहत मिल रही थी, पर आज 20 अगस्त को दिल्ली हाई कोर्ट ने चिदंबरम की जमानत याचिका को रद्द कर दिया 

लूट के मामले में चिदम्बरम को गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई की टीम उनके दिल्ली स्थित घर पर पहुँच गयी पर चिदंबरम फरार हो गए, उन्होंने अपना मोबाइल बंद कर दिया 

अब सीबीआई यानि अमित शाह चिदंबरम के पीछे है उनको गिरफ्तार करने के लिए खोज रहे है वहीँ चिदंबरम फरार है, ये कर्म ही है जिसका फल अब चिदम्बरम को मिल रहा है, और कर्म का फल तो मिलकर ही रहता है