1 साल में 20 से ज्यादा गौरक्षकों को मारा है मुस्लिम तस्करों ने, पर नहीं बना कोई भी मुद्दा


जय श्री राम न बोलने पर पीटाई के अधिकतर मामले झूठे है इसका बाबजूद ये राष्ट्रीय मुद्दा है, वहीँ पिछले 1 साल में कम से कम 20 गौ रक्षकों को मुस्लिम तस्करों ने मार डाला है पर इन गौरक्षकों के नाम तक किसी को नहीं पता है 

शायद मीडिया और पुरे बुद्धिजीवी वर्ग के लिए गौरक्षक इन्सान में ही नहीं आते, हां पहलु खान जैसे अपराधी, अख़लाक़ जैसे अपराधी, तबरेज़ जैसे अपराधी जरुर इन्सान में आते है 

1 साल में सिर्फ उत्तर प्रदेश, हरियाणा और बिहार में 20 से ज्यादा गौरक्षको को मारा गया है, और ये सभी हत्याएं मुस्लिम तस्करों ने की है, मरने वाले लोगो में गौरक्षको के अलावा पुलिस वाले भी शामिल है 

अभी कुछ ही दिनों पहले गौ तस्करों ने हरियाणा में एक हिन्दू युवक को कुल्हाड़ी से मार दिया था, और अभी हाल ही में गोपाल नाम के एक और गौरक्षक को गौतस्करों ने मार दिया है 

इस से पहले उत्तर प्रदेश में तो एक हिन्दू को चारपाई से बांधकर मार दिया गया, मंदिर में घुसकर उन्हें चारपाई से बाँधा गया और मार दिया गया, वो भी सिर्फ इसलिए क्यूंकि उन्होंने गौ हत्या के खिलाफ मुहीम चलाई थी और इसकी शिकायत पुलिस से की थी 

सिर्फ गौरक्षक और साधु ही नहीं बल्कि गौतस्करों ने कई पुलिस वालो को भी मारा है, जो की तस्करी के अपराध को रोकने की कोशिश कर रहे थे 

कहीं पहलु खान, तबरेज़, अख़लाक़ जैसे अपराधियों की मौत होती है तो उसपर पुरे देश में शोर मचाया जाता है, वहीँ अनगिनित गौ रक्षको को मारा गया है लेकिन उनके लिए न कभी कोई डिबेट होती है और न ही कोई मुद्दा ही बनता है 
loading...
Loading...



Loading...