हनुमान चालीसा करने पर मुस्लिम समुदाय के लोगो ने करी मॉब लिंचिंग की कोशिश


देश तो सेक्युलर है और अक्सर मुस्लिम समुदाय के मजहब गुरु और नेता ये भी कहते है की वो तो बहुत सेक्युलर है और सभी धर्मो का सम्मान करते है 

पर अक्सर ये बातें झूठी ही साबित हो जाती है, और फिर एक बार ऐसा ही हुआ है, इस बार बंगाल के हावड़ा में ऐसा हुआ है की सेकुलरिज्म तार तार हो चुकी है 

बंगाल में सड़क पर नमाज़ और अतिक्रमण के विरोध में स्थानीय हिन्दू सड़क पर हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे थे, इस दौरान पुलिस ने हनुमान चालीसा कर रहे लोगो पर काफी बर्बरता भी की 

हनुमान चालीसा का पाठ करने वाले लोगो में इशरत नाम की मुस्लिम महिला भी शामिल थी, इशरत अब पुलिस से अपनी सुरक्षा की गुहार लगा रही है 

मुस्लिम समुदाय के लोगो ने इशरत को हनुमान चालीसा करते देखा तो उसे जान से मारने की धमकी मिल गयी है 

इशरत ने बताया है की वो अपने घर में अकेले ही रहती है, और उसको मारने की कोशिश भी हुई है, उसे लगातार धमकियाँ दी जा रही है क्यूंकि उसने हनुमान चालीसा का पाठ किया था 

इशरत ने पुलिस में लिखित शिकायत भी की है, पर उसे खौफ है क्यूंकि बंगाल की पुलिस पर हमेशा से ही इस्लामिक कट्टरपंथियों के पक्ष में काम करने का आरोप लगता रहा है, इशरत की गलती बस ये थी की उसने सेकुलरिज्म निभाते हुए हनुमान चालीसा में भाग लिया जिसके बाद मुस्लिम समुदाय के लोगो ने सेकुलरिज्म को फिर तार तार कर दिया और एक अकेली महिला को मारने की धमकियाँ दी जा रही है