न कोई पैतृक सम्पति, न कोई कारोबार, दलितों को ठगकर हो गयी मायावती मालामाल


मायावती के भाई की सिर्फ नॉएडा में 400 करोड़ की काली संपत्ति को जप्त किया गया है, पर मायावती और उसके भाई के पास सिर्फ 400 करोड़ की काली संपत्ति है ऐसा बिलकुल नहीं है 

सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ट वकील के अनुसार तो सिर्फ नॉएडा, गाज़ियाबाद, गुरुग्राम और दिल्ली इन 4 शहरों में मायावती की 10 हज़ार करोड़ रुपए की काली संपत्ति है 

इसके अलावा पुरे देश भर और विदेशों में मायावती और उसके कुनबे ने कितनी काली संपत्ति बनाई है इसका तो अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता 

आनंद कुमार जो मायावती का भाई है उसकी 400 करोड़ की काली संपत्ति को जप्त किया गया तो मायावती प्रेस कांफ्रेंस करने के लिए सामने आई और बीजेपी पर आरोप लगाने लगी, वैसे ये लाजमी था, बीजेपी पर मायावती ने जमकर आरोप लगाये पर ये नहीं बताया की ये 400 करोड़ की काली संपत्ति आनंद कुमार ने कहाँ से बनाई ? 

दूसरों पर आरोप लगाने से पहले मायावती को बताना चाहिए की उसके कुनबे के पास आज जो काली संपत्ति है, काली संपत्ति का काला साम्राज्य है वो आखिर किस धंधे से बना है

मायावती की न कोई पैतृक सम्पति, न कोई कारोबार! पिता डाकघर में कर्मचारी थे, और खुद के अलावा मायावती के घर में 6 भाई और 1 बहन थी, ऐसे में एक आदमी अपना परिवार मुश्किल से ही चला पाता है 

मायावती दलितों की भलाई के नाम पर राजनीती में आ गयी और खुद को दलितों की बेटी घोषित कर दिया, दलितों का तो कोई फायदा नहीं हुआ पर मायावती का पूरा कुनबा अरबपति हो गया 

मायावती का भाई आनंद कुमार कौन सा धंधा करता है ? कौन सी फैक्ट्री कौन सा उद्योग करता है की उसके पास अरबों की संपत्ति है 

मायावती का कहना है की बीजेपी दलितों को बढ़ते हुए नहीं देखना चाहती, मायावती को जरुर बताना चाहिए की वो भी कई बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी है, उसके कुनबे के अलावा यूपी में कितने दलित आगे बढे है !