चंदौली में अन्धविश्वास में मुस्लिम ने खुद को लगाई आग, मीडिया ने कहा - जय श्री राम न बोलने पर जलाया गया


भारत की मीडिया और मजहबी उन्मादी सिर्फ झूठ बोलकर देश का माहौल ख़राब करने का काम रोजाना कर रहे है, और इसी झूठ के जरिये वो कह रहे है की मुसलमान खतरे में है और मुसलमान हथियार जमा कर ले 

ऐसा प्रतीत हो रहा है की झूठ और फरेब का खेल सिर्फ बहाना बनाकर हथियारों को जमा करने और हथियारों की ट्रेनिंग का खेल है 

रोज एक ही झूठ की "जय श्री राम न बोलने पर मारा गया, जय श्री राम न बोलने पर अत्याचार किया गया", और फिर मीडिया ने आज चंदौली की एक घटना पर झूठ फैलाया 

मीडिया ने आज देश के लोगो को बताया की चंदौली जो की पूर्वी उत्तर प्रदेश में है वहां पर एक मुस्लिम शख्स को जय श्री राम न बोलने पर जिन्दा जला दिया गया 

इस खबर को आजतक, आउटलुक, और अन्य मीडिया हाउसेस ने फैलाया 


हैडलाइन चलाया की - चंदौली : जय श्री राम न बोलने पर युवक को जिन्दा जलाया, हालत गंभीर

इस तरह की खबरें इंडिया टुडे, आउटलुक इत्यादि ने खूब फैलाई और अब इन ख़बरों का स्क्रीनशॉट लेकर व्हाट्सऐप पर भी खूब फैलाया जा रहा है

पर इस घटना का सच कुछ और ही निकला



पुलिस अधीक्षक ने मामले की जांच के बाद बताया की लड़के ने जय श्री राम की कोई बात ही नहीं की, साथ ही वो अलग अलग बयान खुद दे रहा है और झूठ बोल रहा है, दरअसल उसने खुद को ही अंधविश्वास में आग लगाई, और इसके गवाह भी सामने आ रहे है, मीडिया ने खबर को धार्मिक एंगल दिया और जय श्री राम से जोड़कर नफरत की आग फैलाई