बरेली में मुस्लिम समुदाय के हिन्दुओ के पूजा पर लगाई रोक, घर से घसीटकर मारने की धमकियाँ


उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में अब मुस्लिम जनसँख्या बहुसंख्यक होने को है, और बरेली के बहुत सारे इलाकों में मुसिलम जनसँख्या बहुसंख्यक हो भी चुकी है 

इन तमाम इलाकों से हिन्दुओ का धीरे धीरे पलायन भी हो रहा है, कुछ इलाकों से हिन्दुओ का बिलकुल सफाया कर दिया गया है बाकि कुछ इलाकों से सफाए का काम जारी है 

हिन्दू पलायन करे, डर कर भागे इसके लिए हर तरह के कार्य भी किये जा रहे है, इनमे हिन्दू महिलाओं का शोषण समेत मंदिरों पर हमले और हिन्दुओ का दमन शामिल है 

अब बरेली के मिलक पछौड़ा गाँव में हिन्दू समाज के लोग अल्पसंख्यक हो चुके है और हिन्दू यहाँ खौफ के साए में जी रहे है, मुस्लिम समुदाय के लोगो ने हिन्दुओ पर मंदिर में पूजा करने पर रोक लगा दी है, हिन्दुओ पर बैन लगा दिया गया है 

और हिन्दुओ को धमकियाँ दी गयी है की अगर मंदिर में पूजा करने की हिम्मत की तो घरों से घसीटकर निकाला जायेगा और मारा जायेगा 

इतना ही नहीं यहाँ हिन्दू महिलाओं का अपने घरों से निकलना भी दूभर कर दिया गया है, हिन्दू महिलाओं को निशाना बनाकर उनसे छेड़छाड़ की घटनाएं की जाति है

इस गाँव में मुस्लिम समुदाय की आबादी 700 से ज्यादा हो चुकी है और हिन्दू अब इस गाँव में सिर्फ 150 ही बचे है, पहले यहाँ हिन्दू बहुसंख्यक हुआ करते थे, पर अब अधिकतर भाग गए है और 150 ही बचे है और इनको भी भगाने का पूरा इन्तेजाम किया जा चूका है इसलिए अत्याचार किये जा रहे है 

गाँव में 50 साल पुराना एक मंदिर है, यहाँ हिन्दुओ के पूजा पर मुस्लिम समुदाय ने अब बैन लगा दिया है, अगर कोई हिन्दू महिला जाये तो उसका शोषण किया जाता है, और पुरुष जाये तो मारपीट 

हिन्दू समाज के लोगो में यहाँ खौफ है, विधायक से लेकर प्रशासन तक शिकायत की जा चुकी है पर सुनने वाला कोई नहीं, गों के लोगो का कहना है की मंदिर में घंटी और भजन आरती भी अब नहीं कर सकते जबकि मस्जिद पर कई कई लाउड स्पीकर लगे है

स्थानीय हिन्दुओ का ये भी कहना है की मुस्लिम समुदाय के लोग धमकियाँ देते है की अगर मंदिर में पूजा की हिम्मत की तो घरों से घसीटकर निकालेंगे और मारेंगे 




गाँव के लोगो का कहना है की प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद उनकी उम्मीदें कुछ जागी थी पर अबतक उनकी नहीं सुनी गयी और उनपर गाँव में अत्याचार होता है, अगर ऐसा ही रहा तो वो या तो मज़बूरी में पलायन को मजबूर हो जायेंगे या मर ही जायेंगे