वाराणसी में इंस्पेक्टर एजाज ने 9 हिन्दुओ को नौकरी से निकाल रोड पर फेंक दिया, रो रहे हिन्दू


धार्मिक आधार पर देश के तमाम इलाकों से हिन्दुओ पर अत्याचारों की खबरें और घटनाएं सामने आ रही है, मीडिया इन तमाम ख़बरों और घटनाओं को दबाने का पूरा प्रयास करती है और "जय श्री राम न बोलने पर पीटाई" की फर्जी खबरें फैलाती है 

सिर्फ सोशल मीडिया के कारण ही हिन्दुओ पर हो रहे अत्याचारों की जानकारी लोगो तक पहुँच रही है और एक ऐसा ही मामला वाराणसी से सामने आ रहा है 

प्रदेश में योगी सरकार है और वाराणसी से तो खुद प्रधानमंत्री मोदी सांसद है पर यहाँ 9 हिन्दू और उनके परिवार सड़क पर आ गए है, और उनकी आँखों में आंसू है 

इनको हिन्दू होने की सजा दी गयी है, 9 हिन्दुओ को एक इंस्पेक्टर एजाज अहमद ने नौकरी से निकाल दिया है और उनको नौकरी से निकाल कर सड़क पर फेंक दिया है 

इन 9 में से 1 हिन्दू का विडियो सामने आया है जो अपने साथ हुए अत्याचार को बताते हुए रो पड़ता है, आप स्वयं देखिये 


3 सालों सेवाराणसी के कंटोनमेंट बोर्ड छावनी परिषद अस्पताल में 9 हिन्दू नौकरी कर रहे थे, इनके परिवार का पालन पोषण इसी नौकरी से हो रहा था, फिर इस अस्पतला में एक इंस्पेक्टर एजाज अहमद आया और इन 9 हिन्दुओ को नौकरी से निकाल कर सड़क पर फेंक दिया 


अपने साथ हुई आपबीती को बताकर ये वृद्ध होने को आया व्यक्ति रो रहा है, जिन सभी 9 को नौकरी से निकाला गया वो सभी के सभी हिन्दू ही है,  इनको योगी और मोदी राज में वाराणसी में हिन्दू  होने की सजा दी आयी है और कोई सुनने देखने वाला नहीं है और ये लोग सड़कों पर भटक रहे है